मंत्रालय के अधिकारियों को देना होगा अपने काम का ब्यौरा

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 16-Oct-2016

मुंबई, 16 अक्टूबर। राज्य की करोड़ो जनता की समस्याओं को सुलझाने के लिए मंत्रालय में बैठे अधिकारियों को अब महीने भर में अपने कामकाज का ब्यौरा देना होगा। प्रायोगिक तौर पर इस आशय की शुरुआत सामान्य प्रशासन विभाग में कर दी गई है। धीरे-धीरे इसे मंत्रालय में कार्यरत विभागों में लागू कर दिया जाएगा। इस आशय की जानकारी मंत्रालय में कार्यरत उच्च पदस्थ सूत्रों से मिली है।

गौरतलब है कि मंत्रालय में कार्यरत विभिन्न विभागों में लाखों की संख्या में शिकायती पत्र आते हैं। इन पत्रों का निवारण होता है या नहीं, इसके बारे में किसी को कुछ पता नहीं होता है। मंत्रालय में कार्यरत एक उच्च पदस्थ अधिकारी ने बताया है कि मंत्रालय में कार्यरत अधिकारियों को अपने कार्यों का ब्यौरा देना होगा और इसकी शुरुआत मंत्रालय के सामान्य प्रशासन विभाग में कर दी गई है। धीरे-धीरे इसे मंत्रालय में कार्यरत सभी विभागों में लागू कर दिया जाएगा। किए गए कार्यों की एक रिपोर्ट विभाग के बाहर लगे फलक पर व संकेतस्थल पर लगानी/ डालनी होगी। संकेत स्थल पर डालने से उसकी जानकारी लोगों को घर बैठे मिल सकेगी और फलक पर लगाने से मंत्रालय आने वाले लोगों को जानकारी उपलब्ध हो सकेगी। इसके लिए उन्हें अधिकारियों से पूछना नहीं पडेगा। उल्लेखनीय है कि अधिकारियों द्वारा कार्यों में लापरवाही के साथ दबंगई बरती जाती है।  किसी न किसी मामले को लेकर विधायकों की मंत्रालय के अधिकारियों से ठन जाती है और मामला जब मुख्यमंत्री के पास पहुंचता है तो उन्हें भी नाराजगी व्यक्त करनी पडती है। ऐसे में मुख्यमंत्री के अधीन आने वाले सामान्य प्रशासन विभाग में अपने कार्यों की रिपोर्ट को सार्वजनिक करने का कार्य शुरु हो गया है।