त्वचा के लिए घातक हो सकती है स्टीराइड क्रीम

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 20-Sep-2016


चेहरे की खूबसूरती या त्वचा में निखार लाने के उद्देश्य से अगर आप स्टीराइड जैसी क्रीमों को इस्तेमाल में ला रहे हैं, तो जरा सावधानी बरतें। कहीं ऐसा न हो कि यह क्रीम आपकी त्वचा में स्थाई व घातक बीमारी पैदा कर दे। दरअसल, होता यह है कि आमतौर पर मेडिकल स्टोर, ब्यूटीपार्लर, झोलाछाप चिकित्सकों के पास इस तरह की क्रीमें देखने को मिल जाती हैं। ब्यूटीपार्लरों के यहां स्टीराइड क्रीम का बेजा इस्तेमाल कर युवाओं में फेसियल करवाने की जैसे होड़ सी लगी रहती है। फिर शादी-ब्याह में तो फेसियल एक प्रचलन हो गया है। ज्यादा इस्तेमाल करने पर जब त्वचा में खराबी होने लगती है तब लोग चिकित्सकों के पास जाने लगते हैं। जहां, इनका इलाज करना उन चिकित्सकों को द़ुरूह हो जाता है। दरअसल, स्टीराइड क्रीम का बेजा इस्तेमाल से चमड़ी को फिर उसी क्रीम की लत पड़ जाती है।

डा. अनुभव गर्ग का कहना है कि स्टीराइड जैसी क्रीमों का लंबे समय तक इस्तेमाल में लाना घातक साबित हो सकता है। वैसे भी किसी बीमारी में इस क्रीम का प्रयोग वर्जित है। आम तौर पर इसका दुरुपयोग ज्यादा देखने में मिलता है। जैसे कि चेहरे को सुंदर बनाने, फंगल इनफेक्शन (दाद) में लोग इसका इस्तेमाल करते हैं। कभी-कभी तो देखा गया है माताएं नवजात शिशुओं में स्टीराइड क्रीम लगाती हैं। जिससे गंभीर, दूरगामी कई बार तो स्थाई बीमारी बन जाती है। इस क्षेत्र में चिकित्सकों का एक संगठन आईएडीवीएल व्यापक स्तर पर काम कर रही है। आईएडीवीएल ने हाल ही में स्टीराइड जैसी क्रीमों के इस्तेमाल को लेकर व्यापक जनजागरूकता अभियान चलाया हुआ है। डा. अनुभव गर्ग के मुताबिक इस तरह की क्रीमों पर सख्त प्रतिबंध लगने चाहिए। केवल रजिस्टर्ड मेडिकल स्टोर्स पर ही उपलब्ध रहने चाहिए ताकि इनके दुरुपयोग पर लगाम लग सके। क्योंकि सहजता में मिलने के कारण बड़े पैमाने पर इनका दुरुपयोग होता है।

दुष्परिणाम-

चमड़ी के अंदर खून का संचार कम होने लगता है जिससे कि गोरे होने का एहसास होने लगता है। लंबे समय तक इस्तेमाल करने से खुजली, जलन, चकत्ते, आदि पडऩे के अलावा बाल भी उग आते हैं। चमड़ी में एक तरह का नशा सा हो जाता है। न चाहते हुए भी निर्भरता हो जाती है। इसलिए, इसका प्रयोग करने से पहले चिकित्सक की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

सावधानी-

कभी भी चमड़ी पर समस्या हो तुरंत विशेषज्ञ से मिलें या सरकारी अस्पताल में जाकर चिकित्सक को दिखाएं।

किसी भी क्रीम का इस्तेमाल करने से पहले उसके बारे में प्रामाणिक जानकारी जुटा लें। फिर भी किसी भी तरह का संदेह हो तो सलाह-मशविरा अवश्य ले लें। विज्ञापनों पर कभी भी भरोसा न करें। कोई भी क्रीम लंबे समय तक इस्तेमाल न करें। उचित सलाह के लिए चिकित्सक से मिलें।

 

****


लेखक डॉ. अनुभव गर्ग  कॉस्मेटोलॉजिस्ट विभाग (जयारोग्य मेडिकल कॉलेज, ग्वालियर) के विभागाध्यक्ष हैं.