एस-400 ट्रायम्फ : भारत-रूस से जल्द खरीद सकता है यह मिसाइल

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 13-Dec-2017

मॉस्को। भारत और रूस के बीच एस-400 ट्रायम्फ हवाई रक्षा प्रणाली का सौदा जल्द तय होने के कगार पर है। इस पर गहनता से चर्चा चल रही है। इस मिसाइल रक्षा प्रणाली के मिलने से भारत की ताकत कई गुना बढ़ जाएगी।

समाचार एजेंसी तास के अनुसार, रूस के सरकारी रक्षा एवं औद्योगिक समूह रोस्टेक के अधिकारी विक्टर एन क्लादोव ने कहा कि इस समय इस मुद्दे पर बातचीत चल रही है और आकलन किया जा रहा भारत एस-400 ट्राइम्फ हवाई रक्षा प्रणाली कितनी संख्या में खरीदेगा।

संवाददताओं के एक सवाल के जवाब में क्लादोव ने कहा, ‘'जितना जल्द सौदा के लिए दस्तावेज तैयार कर लेंगे उतनी ही जल्द इस पर हस्ताक्षर कर लिए जाएंगे। मैं आपको समय के बारे में नहीं बता सकता हूं, लेकिन आने वाले दिनों में किसी भी समय यह हो सकता है। काम काफी तेजी से चल रहा है।”

भारत ने पिछले साल 15 अक्टूबर को रूस के साथ ट्रायम्फ वायु रक्षा प्रणाली को लेकर एक समझौते की घोषणा की थी जिसकी कीमत 5 अरब डॉलर से ज्यादा है। भारत ने इसके साथ ही 4 युद्धपोत निर्माण में सहयोग और कामोव हेलिकॉप्टर के लिए एक संयुक्त निर्माण इकाई स्थापित करने की भी घोषणा की थी। रूसी अधिकारी ने बताया कि भारत से तकनीकी मुद्दों पर बातचीत चल रही है। यह अति आधुनिक प्रणाली है, इसमें कई तकनीकी मुद्दों को देखा जाना है।

विदित हो कि भारत और रूस के बीच इस अहम रक्षा सौदे की घोषणा पिछले साल गोवा में आयोजित ब्रिक्स सम्मेलन के इतर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पूतिन के बीच बातचीत के बाद हुआ था। एस-400 ट्रायम्फ लंबी दूरी की वायु रक्षा प्रणाली है जो लड़ाकू विमानों, मिसाइलों और यहां तक कि 400 किलोमीटर की दूरी तक उड़ रहे ड्रोन को नष्ट कर सकता है।