फास्टफूड से ज्यादा खतरनाक उसकी पैकिंग

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 20-Dec-2017

स्वदेश वेब डेस्क। फास्टफूड तो सेहत के लिए हानिकारक है लेकिन क्या आपको पता है कि फास्टफूड से ज्यादा खतरनाक उसकी पैकिंग होती है। जी हां, डॉक्टरों की मानें तो पैकिंग के लिए यूज किए गए रैपिंग पेपर्स ऐसे कैमिकल्स से बनाए जाते हैं, जिनसे गंभीर बीमारियां होती हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि उससे भी ज्यादा खतरनाक उसकी पैकिंग है।

हाल ही में हुए शोध में बताया गया है कि फास्ट फूड से ज्यादा उसकी पैकिंग सेहत को नुकसान पहुंचाती है। आइए जानते है कि किस तरह इसकी पैकिंग सेहत के लिए हानिकारक हो सकती है। फास्ट फूड को पैक करने के लिए जिस शीट का इस्तेमाल किया जाता है उनमें खतरनाक कैमिकल होते है। इस शीट में मौजूद सिंथेटिक केमिकल्स सेहत के लिए हानिकारक हो सकते है। इन्हें पैक करने वाली रैपिंग पर चमक लाने के लिए ग्रीस की परत चढ़ाई जाती है। इसका सीधा असर शरीर की प्रतिरोधक क्षमता पर पड़ने के कारण आपको कैंसर भी हो सकता है। लंबे समय तक पैक रहने वाले फास्टफूड खाने से हार्ट रोग, कैंसर, कोलेस्ट्रॉल, हाई ब्लडप्रेशर, वजन बढ़ना, पेट खराब और पाचन शक्ति जैसी बीमारियां हो सकती है। वेज फूड की तुलना में नॉनवेज फास्टफूड ज्यादा खतरनाक होता है। एक तो इसे बनाने के लिए बासी मांस का सेवन किया जाता है। दूसरा लंबे समय मांस के संपर्क में रहने के कारण रैपिंग के केमिकल और भी ज्यादा खतरनाक हो सकते है।