अमर नाथ विद्या आश्रम में विमुद्रीकरण विषय पर हुई वाद-विवाद प्रतियोगिता

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 21-Dec-2017



मथुरा। अमर नाथ विद्या आश्रम में भारतीय मुद्रा के विमुद्रीकरण (डिमोनाइजेशन) विषय पर आयोजित वाद-विवाद प्रतियोगिता में विद्यार्थियों ने पक्ष-विपक्ष में मजबूती से अपना-अपना पक्ष रखा। अमर नाथ शिक्षण संस्थान के चेयरमैन डा. आदित्य कुमार वाजपेयी ने सभी बच्चों को अपना आशीष दिया तथा उनकी वक्तत्व कला की प्रशंसा की। उन्होंने अपने कर-कमलों से प्रतियोगिता के विजयी विद्यार्थियों को मैडल तथा प्रमाण प्रदान किये।

वाद-विवाद प्रतियोगिता के अवसर पर अमर नाथ गल्र्स डिग्री कॉलेज के प्राचार्य डा. अनिल वाजपेयी ने बच्चों की प्रशंसा करते हुये कहा कि वक्तत्वकला से व्यक्ति का व्यक्तित्व विकास होता है। इस अवसर पर अमर नाथ विद्या आश्रम के प्रधानाचार्य डा. अरूण वाजपेयी तथा उप प्रधानाचार्य डा. अनुराग वाजपेयी ने भी बच्चों की वक्तत्वकला की प्रशंसा करते हुये अपना आशीर्वाद दिया।

विद्यालय के वाणिज्य विभाग द्वारा कक्षा 11 व 12 के लिये आयोजित वाद-विवाद प्रतियोगिता में छात्रा कृतिका ने डिमोनाइजेशन के पक्ष में बोलते हुये कहा कि डिमोनाइजेशन सभी के लिये बहुत ही हितकर रहा है, इससे भ्रष्टाचार में कमी आयी है। वहीं छात्र श्वेतांक राज ने कृतिका की बात का विरोध करते हुये कहा कि डिमोनाइजेशन से सिर्फ आम जनता को परेशानी हुई है। आकृति और अर्शल ने कृतिका की बात से सहमत होते हुये कहा कि डिमोनाइजेशन से सिर्फ काले धन वालों को परेशानी हुई है।

डिमोनाइजेशन के विपक्ष में बोलते हुये कीर्ति और अनन्या ने कहा कि नोटबन्दी के दौरान पूरा देश भयंकर सर्दी में लाईन में लगा रहा, सभी व्यापार व धन्धे ठप्प हो गये और लोग बेरोजगार हो गये। छात्र वंश अग्रवाल और अंशुल ने कीर्ति व अनन्या की बात का विरोध हुये कहा कि डिमोनाइजेशन के लगभग एक साल बाद देश की आर्थिक गति में वृद्धि हुई है। देश में टैक्स देने वालों की संख्या में वृद्धि हुई है, इससे देश का विकास और भी तेजी से होगा। वंश ने कहा कि डिमोनाइजेशन से टेरर फण्ड पर रोक लगी है, नकली नोट समाप्त हो गये, हवाला पर रोक लगी तथा डिजीटल ट्रांजेक्शन में वृद्धि हुई है।

वाद-विवाद प्रतियोगिता के निर्णायक मण्डल की सदस्य डा. मीता एवं डा. अनीता पुजारा को फाइनल रिजल्ट के लिये प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान के लिये बच्चों का चयन करने में काफी जद्दोजहद करनी पड़ी। प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर कृतिका दुबे एवं वंश अग्रवाल, द्वितीय स्थान पर अनन्या एवं तृतीय स्थान पर श्वेतांकराज रहे। प्रतियोगिता का कुशल संचालन छात्रा अदिति तथा मालविका ने किया तथा प्रतियोगिता संयोजन शुभम मोहन ने किया तथा पवन भारद्वाज, चक्रेश पाठक ने सहयोग किया।