मीराबाई प्रेम से समाप्त होगा समाज का खारापन: साध्वी ऋतंभरा

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 21-Dec-2017

चरित्र की कथा का शुभारम्भ

 


कमला नगर में तीन दिन चलेगी कथा

आगरा। वनवासी बंधुओं के उत्थान के लिए वनवासी कथाकार योजना के निमित्त श्रीहरि सत्संग समिति द्वारा आयोजित मीराबाई चरित्र कथा का शुभारम्भ बुधवार को कमला नगर सेंट्रल रोड स्थित कृष्णा पार्क में सांध्वी ऋतंभरा ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इस अवसर पर उन्होंने भक्तों को संबोधित करते हुए कहा कि समाज के खारेपान को प्रेम और वात्सल्य की धारा से समाप्त किया जा सकता है।

उन्होंने समझाया कि दूर दराज बैठा हमारा भाई अगर हमारे प्यार से वंचित रहेगा जो उसे राष्ट्र का शत्रु बनाकर खड़ा कर दिया जाएगा। उन्होंने वनवासी कथाकार योजना के संदर्भ में कहा कि अलगाववाद व नक्सलवाद के बारूदों के मध्य वनवासी कथाकार राम व कृष्ण कथा की फसल उगा रहे हैं। यह सरल नहीं, अपितु ईश्वरीय कार्य है। तीन दिवसीय कथा के पहले दिन गोवत्स राधाकिशन महाराज ने मीरार्बा के पूर्व जन्म की कथा सुनाते हुए बताया कि भगवान कृष्ण के सखा श्रीदामा की पहली पत्नी माधवी ही मीराबाई के रूप में राजस्थान के मेड़ता के पास एक गांव में जन्मी। कथाक्रम में उन्होंने माताओं को समझाया कि वे ससुराज जाती बेटियों को ससुराल में मिलजुल कर रहने व सहने की सीख दें। समिति के अध्यक्ष राधा बल्लभ बंसल, राष्ट्रीय संरक्षक स्वरूप चंद्र गोयल, अनिल अग्रवाल, संजय गोयल भगवान दास बंसल, शांति स्वरूप गोयल, मुख्य यजमान राजेश अग्रवाल, दैनिक यजमान हरीशंकर अग्रवाल, कांता माहेश्वरी, सुषमा अग्रवाल प्रमुख रूप से मौजूद रहीं।