व्यायाम को ज्यादा सुलभ बना देती है हंसी

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 10-Mar-2017

एक अध्ययन में पता चला है कि हंसने को अपने शारीरिक व्यायाम में शामिल किए जाने से बुजुर्ग लोगों के मानसिक स्वास्थ्य, एरोबिक और व्यायाम करने के आत्मविश्वास में सुधार आता है। इस अध्ययन में बुजुर्ग लोगों ने एक मध्यम हंसी वाले व्यायाम सक्रिय हंसी में भाग लिया। इस शारीरिक व्यायाम में मजबूती, संतुलन और लचीलेपन वाले कसरतों में बनावटी हंसी को शामिल किया गया।

निष्कर्षों से पता चलता है कि बनावटी हंसी से बुजुर्गों के कार्यात्मक और संज्ञानात्मक हानि से बचाव का एक आदर्श तरीका हो सकता है। प्रतिभागियों के मानसिक स्वास्थ्य, एरोबिक और व्यायाम के दूसरे परिणामों में भी महत्वपूर्ण सुधार हुए। इसके अलावा 96.2 प्रतिशत प्रतिभागियों ने पाया कि हंसी उनके लिए पारंपरिक व्यायाम कार्यक्रम में एक आनंदायक जोडी गई वस्तु हो सकती है। प्रतिभागियों में से 88.9 प्रतिशत ने कहा कि हंसी व्यायाम को ज्यादा सुलभ बना देती है। करीब 88.9 प्रतिशत ने कहा कि हंसी के इस कार्यक्रम ने उन्हें दूसरी गतिविधियों में शामिल होने को प्रेरित किया है।

जार्जिया स्टेट विश्वविद्यालय के स्त्रातक छात्र, प्रमुख लेखक क्लीस्टी ग्रेनी ने कहा,हंसी और व्यायाम के संयोजन के प्रभाव से बुजुर्ग लोगों पर ने व्यायाम करना शुरू किया और कार्यक्रम में बने रहे। शारीरिक गतिविधि से स्वास्थ्य लाभ और निष्क्रियता से होने वाले जोखिम के बावजूद, बहुत सारे वयस्क अपने सेहत के लिए जरूरी शारीरिक गतिविधि नहीं करते। शोधकर्ताओं का कहना है कि बुजुर्ग लोगों के लिए रोज की शारीरिक गतिविधि से जुडे रहने की प्रेरणा को बनाए रखना एक चुनौती है।