जंगलों में शुक्रवार से लगी आग को बुझाने का काम शनिवार जारी रहा

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 15-Apr-2017

 
माउण्ट आबू। माउण्ट आबू के जंगलों में शुक्रवार सवेरे भड़की आग को बुझाने का काम शनिवार को भी जारी रहा। आग को पूरी तरह से काबू पाने के लिए एक और हेलीकॉप्टर माउण्ट आबू पहुंचा है, वहीं पेट्रोल टैंकर भी पहुंच चुका है, जिससे ईंधन की वजह से भी काम प्रभावित होने की आशंका नहीं रहे। शुक्रवार को सेना के एक हेलीकाॅप्टर ने नक्की झील के पीछे से सनसेट प्वाइंट की ओर जाने वाले बेलेज वॉक वाले जंगलों में भड़के दावानल पर पानी डालकर आग बुझाई थी। इस क्षेत्र में फिर आग नहीं लगी। गंभीरी नाले और गणेश प्वाइंट से अधर देवी की ओर जाने वाले जंगलों में दावानल जारी है| इसे बुझाने के लिए शनिवार को हेलीकॉप्टर्स से पानी डालना शुरू किया गया है।

प्रशासनिक सूत्रों के अनुसार आज मौसम पूरी तरह से खुला हुआ है| इसलिए उड़ान में समस्या नहीं आएगी। सवेरे छह बजे से दोनों हेलीकॉप्टर्स ने दावानल पर पानी डालने का काम शुरू कर दिया है। जिला कलक्टर ने शनिवार को इस आग पर पूरी तरह से काबू पाने की आशा जताई है। इस अभियान को देखते हुए शनिवार को भी नक्की में नौकायन बंद रखा गया है वहीं नक्की बाजार क्षेत्र में भी कम हलचल है। अनादरा प्वाइंट पर जाने वाले रास्तों पर यातायात की अनुमति नहीं है।

पूरी रात आग बुझाने में लगे रहे कर्मचारी

शुक्रवार शाम को ईंधन की कमी और अंधेरा होने के कारण हेलीकॉप्टर से दावानल प्रभावित क्षेत्रों में पानी का छिडकाव रोकना पड़ा था, लेकिन आग बुझाने का काम मैनुअल जारी रहा। जिला कलक्टर अभिमन्यु कुमार ने बताया कि विभिन्न विभागों के कार्मिक पूरी रात फायर ब्रिगेड व अन्य स्रोतों से आग पर पानी डालकर उसे बुझाने का काम करते रहे। इससे भी काफी इलाकों में रात को आग पर काबू पाया जा सका।

पहुंचे सीसीएफ वाइल्ड लाइफ और डिविजनल कमिश्नर

माउण्ट आबू में लगे दावानल को सरकार ने भी गंभीरता से लिया है। इसके लिए मुख्यमंत्री कार्यालय पर सीधे ही रिपोर्ट हो रही है और आग पर काबू पाने के लिए आवश्यक सभी मदद और सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है। इसे देखते हुए जयपुर से सीसीएफ वाइल्ड लाइफ गोविंद एस भरद्वाज और जोधपुर के डिविजनल कमिश्नर भी माउण्ट आबू पहुंच चुके हैं। जिला कलक्टर और पुलिस अधीक्षक भी वहीं पर हैं। इससे सभी सरकारी विभागों के समुचित प्रयास इस आग पर काबू पाने में किए जा रहे हैं।

वायुसेना के हेलीकॉप्टर से लिया जायजा

दावानल के भयावह रूप धारण करने की सूचना मिलने पर प्रशासन भी एकदम हाई अलर्ट पर आ गया। एयरफोर्स, आर्मी और सीआरपीएफ की मदद से वनकर्मियों ने फायर लाइन काटने का काम शुरू कर दिया। इसके बाद करीब सीएम कार्यालय, एडीजी, आर्मी, सीआरपीएफ, आर्मी सभी को इंफॉर्म किया।