कांग्रेसी विधायक व 14 वरिष्ठ नेता भाजपा में शामिल

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 18-Apr-2017

इंफाल। मणिपुर की विपक्षी पार्टी कांग्रेस की टूट का सिलसिला जारी है। चुनाव परिणाम आने के साथ ही एक विधायक कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए, जबकि बीते कल शाम को भी एक विधायक ने कांग्रेस से बगावत करते हुए भाजपा का दामन थाम लिया। चुराचांदपुर जिले के सिंघाट (एसटी) सीट से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीते जीनसुनहौ ने मुख्यमंत्री व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष की मौजूदगी में पार्टी मुख्यालय में भाजपा का दामन थाम लिया। विधायक के साथ ही 14 वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं ने भी भाजपा में औपचारिक रूप से शामिल हो गए। जिसके चलते कांग्रेस पार्टी में हड़कंप मचा हुआ है।

जीनसुनहौ ने इंफाल के प्रदेश भाजपा कार्यालय में आयोजित एक समारोह के दौरान कहा भाजपा में शामिल होने के दौरान कहा, मैंने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है और आज भाजपा में शामिल हो गया। साथ ही कहा कि मैं राज्य की सत्ताधारी भाजपा गठबंधन सरकार को मजबूती प्रदान करने के लिए यह कदम उठाया है। भाजपा में शामिल होने वाले कांग्रेसी विधायक का मुख्यमंत्री एन बिरेन सिंह और मणिपुर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष केएस भाबानंदा सिंह ने जोरदार स्वागत किया।

मणिपुर की 60 सदस्यीय विधानसभा सीटों में से कांग्रेस को 28 सीटें मिलीं। वहीं भाजपा ने 21 सीटों पर जीत हासिल करते हुए और चार एनपीपी और चार एनपीएफ के साथ मिलकर सरकार का गठन किया है। इस सरकार को एलजेपी के एक विधायक और एक, टीएमसी के एक व एक निर्दलीय विधायकों ने भी अपना समर्थन दिया है। वहीं कांग्रेस छोड़कर सरकार गठन के पहले ही एक विधायक ने भाजपा का समर्थन किया था। सरकार की सेहत पर हाल ही में उस समय संकट दिखाई देने लगा था जब एनपीपी के विधायक व राज्य के स्वास्थ्य मंत्री ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। हालांकि सरकार से समर्थन वापस लेने संबंधी पूर्व स्वास्थ्य मंत्री ने कोई बयान नहीं दिया है।