तम्बाकू की लत से बाहर निकालने के लिए ‘बी हेल्दी-बी मोबाइल’ सेवा

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 24-Jun-2017

 

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने तंबाकू की लत को छुड़वाने के लिए एक मुहिम शुरू की है। इस अभियान के तहत विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ (आईटीयू) ने संयुक्त रूप से लोगों को तंबाकू छुड़वाने के लिए अभियान में अपना योगदान दिया है ।

इस अभियान के तहत डब्लूएचओ और आईटीयू ने ‘बी हेल्दी-बी मोबाइल’ की पहल उन लोगों के लिए कि है जो तंबाकू छोड़ना चाहते हैं। उस व्यक्ति के द्वारा मोबाईल पर एक मैसेज दिये जाने पर खुद स्वास्थ्य मंत्रालय की टीम आकर उस व्यक्ति को तंबाकू छोड़ने के लिए में मदद करेगा ।

‘स्वस्थ भारत’ अभियान के तहत यह कार्यक्रम शुरू गया है। इस अभियान में कोई भी व्यक्ति अपने मोबाइल से एक मैसेज देकर इस सुविधा का लाभ ले सकता है। मैसेज प्राप्त होते ही संबंधित अधिकारी उस व्यक्ति तक पहुंच जाएगा जो तम्बाकू की लत से बाहर निकलना चाहता हैं। इस अभियान के साथ स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक स्लोगन भी जारी किया है जिसमें उसने कहा है कि 'तंबाकू हरेगा देश जितेगा' । इस अभियान का उद्देश्य है कि समुदाय में सब लोग एक साथ मिलकर यह निर्णय ले कि वे अपने क्षेत्र के किसी भी घर या बाहर किसी भी व्यक्ति को धूम्रपान की अनुमति नहीं देंगे।

भारत में अनुमानतः लगभग 275 मिलियन (35 मिलियन) लोग तंबाकू का सेवन करते हैं। यहां लगभग आधे पुरुष (48 प्रतिशत) और महिला आबादी का एक बटा पांच भाग किसी न किसी रूप में तंबाकू का सेवन करता है। मृत्यु के पांच प्रमुख खतरों में से एक तंबाकू, एकमात्र ऐसा कारक है जिससे बचकर मृत्यु पर काबू पाया जा सकता है। जब धूम्रपान करने वाला व्यक्ति अपने घर में धूम्रपान करता है तो घर के अन्य सदस्यों पर परोक्ष रुप से धूम्रपान संबंधित बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।