शिशुओं को सुलाते समय तकिया लगाना उनके स्वास्थ्य के लिए होता है हानिकारक

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 08-Jun-2017

छोटे बच्चों को तकिया लगाना खतरनाक साबित हो सकता है। इसलिए बेहतर होगा कि उन्हें मां की गोद में या फिर बिस्तर पर सीधे ही सुलाया जाएं। क्या आप जानना चाहते हैं कि बच्चे को तकिया क्यों नहीं लगाना चाहिए तो इसके पीछे निम्न कारण होते हैं|

दम घुटना:- तकिया लगाने से बच्चे की सांस नली अंदर से मुडक़र दब सकती है। चूंकि उनका शरीर काफी नाजुक होता है तो ऐसे में ये समस्या हो सकती है।

अचानक शिशु मृत्यु सिंड्रोम:- तकिया को लगाने से बच्चे में अचानक शिशु मृत्यु सिंड्रोम हो सकता है क्योंकि तकिया लगाने से सांस नली अवरूद्ध हो सकती है।

ओवरहीटिंग:- फैंसी तकिए गर्म होते हैं और बच्चे को लगाने से उनके सिर में गर्मी पैदा हो सकती है जिससे उन्हें नुकसान ही पहुँचेगा। कई बार यह जानलेवा भी होता है।

गर्दन मुडऩा:- तकिए इतने ज्यादा गुदगुदे होते हैं कि उनसे गर्दन मुडऩे का डर रहता है। बच्चों के गले के पास की हड्डी बहुत नाजुक  होती है, अगर वह खिसक जाती है तो बच्चा बहुत रोता है। ऐसे में तकिया लगाना, इस समस्या को पैदा कर सकता है।

सपाट सिर होना:- बच्चे को तकिया लगाने से उसका सिर फ्लैट हो सकता है, क्योंकि उसे सिर पर लगातार प्रेशर पड़ता रहता है।