न दवाब न प्रभाव, ब्रजमंडल में जागृत हुआ विकास का विश्वास

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 19-Sep-2017
 
-योगी सरकार के छह माह के कार्यकाल में विकास की पटरी पर ब्रजमंडल
-दीनदयाल धाम से प्रदेश से के कृषि विकास को गति देने की तैयारी

 
आगरा/मधुकर चतुर्वेदी। उप्र में अब दवाब और प्रभाव से मुक्त सरकार है। नागरिकों में विकास के प्रति विश्वास है। प्रदेश में सरकार बदले छह महीने पूरे हुए, एक भी दंगा नहीं हुआ। पहले राजनीतिक प्रभाव की वजह से दंगे होते थे, अब प्रदेश दंगों से मुक्त है। पहले पुलिस पर हमले होते थे, अब पुलिस अपराधियों पर हमले कर रही है। गुंडाराज और भ्रष्टाचार पर अंकुश लगता दिखाई दे रहा है। विभागों में भ्रष्टाचार रोकने के लिए ई-टेंडरिंग की व्यवस्था लागू की गई है। खनन से लेकर परिवहन तक, ज्यादातर विभागों को पारदर्शी व्यवस्था के अंर्तगत संचालित करने का दृष्टिकोण है। छह महीनों में योगी सरकार ने किसानों की कर्जमाफी, पावर फॉर ऑल और एंटी रोमियो स्क्वॉड जैसे कई बड़े ऐलान किए।
 
उप्र न केवल इतिहास, संस्कृति व सभ्यता को अपने में समेटे हुए है बल्कि, यह अपनी परंपराओं के कारण भी विश्व में जाना जाता है। प्रदेश में समग्र विकास की बात हो और भक्ति व तीर्थ स्थलों को शामिल न किया जाए, तो विकास की अवधारणा अधूरी रहेगी। भगवान श्रीकृष्ण की लीला स्थली के विकास के लिए हालांकि अन्य सरकारों ने भी खूब बजट दिया। बसपा शासन में करीब साढ़े तीन सौ करोड़ का वृंदावन प्रोजेक्ट लागू किया गया था। अखिलेश सरकार ने 780 करोड़ का प्रोजेक्ट स्वीकृत किया था। मगर, योगी सरकार ने इन सबसे आगे बढ़कर ब्रज को प्राथमिकता पर रखा है। 
 
ब्रज के ग्राम्य जीवन की मधुरता बिखेरेगी दीनदयाल जी जन्मस्थली 
 
लंबे समय से उपेक्षित एकात्म मानववाद के प्रणेता पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जन्मस्थली की ग्रामीण पर्यटन का केंद्र बने, इसके लिए 2पांच करोड़ रुपये मंजूर किए गए हैं। इस धनराशि से नगला चंद्रभान में बने एक पुराने भवन, कुंड का सुंदरीकरण कराया जाएगा। चारदीवारी का निर्माण होगा। पाथ वे, आंतरिक मार्ग और आतंरिक मार्गों का निर्माण कराकर यहां पर्यटन कॉम्पलेक्स का निर्माण होगा।
 
दीनदयाल धाम से ब्रज को यह मिलेगा
 
अंन्त्योदय की प्रेरणा भूमि नगला चंद्रभान में पं. दीनदयाल उपाध्याय जन्मशताब्दी समारोह में अन्त्योदय की प्रणेता भूमि नगला चंद्रभान में आ रहे उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ब्रज के विकास के लिए मथुरा को कृषि विश्वविद्यालय, फरह ब्लाक को तहसील का दर्जा, फरह नगर पंचायत को नगर पालिका का दर्जा, राजकीय कन्या डिग्री कालेज, स्पोर्ट्स स्टेडियम, आयुर्वेदिक अस्पताल आदि देने के साथ ही अन्य विकास की कई योजनाओं का शिलान्यास करेंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नगला चंद्रभान को पर्यटन कांपलेक्स की भी सौगात देने जा रहे हैं। 4.98 करोड़ से तैयार इस प्रोजेक्ट में ओपन थियेटर ब्रज के सांस्कृतिक कार्यक्रमों को गति देगा। 
 
ब्रजक्षेत्र में खादी उद्योग के आएंगे अच्छे दिन
 
अभी तक देश में केवल गुजरात में ही खादी नीति लागू थी लेकिन वर्षो से बंद कम्बल कारखानों, खादी वस्त्रोध्योग को बढ़ावा देने के लिए उप्र सरकार ने खादी नीति को अप्रैल 2018 में इसे लागू करने की योजना बनाई है। वर्तमान में खादी उत्पाद बनाने पर सरकार 10 प्रतिशत की सब्सिडी देती है। नई नीति में सरकार 10 की जगह 15 प्रतिशत की सब्सिडी देगी। इस योजना ने हाथरस, मथुरा आदि जिलों में कपड़ा उद्योग को गति मिलेगी अपितु नए क्षेत्र भी स्थापित होंगे। 
 
जिले के आलू किसानों को मिली बड़ी राहत
 
देशभर में सबसे अधिक आलू उत्पादन उप्र में होता है, वह भी आगरा मंडल यानी कि ब्रजक्षेत्र में। वर्षो से घाटे की अर्थव्यवस्था का दंश झेल रहा आलू किसान योगी सरकार से बहुत प्रसन्न है। प्रदेश सरकार ने राज्य की सीमा के अन्तर्गत 300 किमी से अधिक की दूरी के आलू परिवहन होने पर वास्तविक रूप से व्यय किए गए परिवहन भाड़े पर परिवहन भाड़ा अनुदान प्रदान करते हुए आलू को मंडी शुल्क से पूरी तरह मुक्ति दे दी है। इस निर्णय से प्रदेश के 6 लाख आलू किसान लाभान्वित हुए हैं। 
 
43440 लाख से होगा ताजनगरी का विकास 
 
प्रदेश सरकार ने दृष्टि पर्यटन नगरी आगरा के विकास की ओर भी है। जिला योजना समिति के अन्तर्गत कृषि, पशुपालन, दुग्ध विकास, वानकी, ग्राम्य विकास, भूमि विकास एवं जल संसाधन, पंचायत भवनों के निर्माण, विद्युतीकरण, सिचाई, ग्रामोद्योग, सड़कों, पर्यटन, मिड-डे-मील, चिकित्सा, पिछड़ा-अल्पसंख्यक छात्रों को छात्रवृत्ति तथा पुत्रियों की शादी आदि विभागीय योजनाओं को मंजूरी देते हुए आगरा के लिए 43440 लाख का परिव्यय अनुमोदित किया है।
 
ब्रज को मिले पूर्व की सरकारों से तुलना 
 
बसपा सरकार - करीब 350 करोड़ का वृंदावन प्रोजेक्ट मिला
सपा सरकार   - 780 करोड़
योगी सरकार  - 1290 करोड़