धनवान भी हो रहे हैं एनीमिया के रोगी

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 29-Sep-2017

भोपाल। रक्त में लौह तत्वों की कमी के कारण एनीमिया होता है। खाने में चटनी, सलाद, पत्तेदार हरी सब्जियां जैसे पदार्थों को शामिल करके एनीमिया से बचा जा सकता है। प्रदेश सरकार ने एनीमिया से बचाव के लिये लालिमा योजना प्रारंभ की गई है ।

इस योजना के मास्टर ट्रेनर्स लोगों को एनीमिया के खतरों के प्रति जागरूक करें। यह बात संभागायुक्त  अजातशत्रु श्रीवास्तव ने आज कमिश्नर कार्यालय के सभाकक्ष में सम्पन्न मास्टर ट्रेनर्स के प्रशिक्षण अवसर पर कही। इस दौरान संयुक्त आयुक्त एम.एल. त्यागी, संयुक्त संचालक एकीकृत बाल-विकास सेवा भोपाल सम्भाग सुश्री स्वर्णिमा शुक्ला के अलावा संभाग के सभी जिलों के जिला कार्यक्रम अधिकारी व परियोजना अधिकारी तथा यूनिसेफ के प्रशिक्षक भी मौजूद थे ।

संभागायुक्त श्री श्रीवास्तव ने इस अवसर पर कहा कि परिवार में भोजन बनाने का कार्य महिलाएं करतीं हैं लेकिन वे ही सर्वाधिक कुपोषित होती हैं। उन्होंने कहा कि सरकार ने महिलाओं व बालिकाओं को एनीमिया से बचाव के लिये उन्हें आयरन व फॉलिक एसिड की गोलियां उपलब्ध कराने की व्यवस्था की है लेकिन जागरूकता के अभाव में महिलाएं व बालिकाएं इनका सेवन कम करती हैं। संभागायुक्त ने कहा कि ऐसा नहीं है कि एनीमिया केवल गरीब लोगों में ही पाया जाता है बल्कि भोजन की गुणवत्ता में कमी तथा जंक फूड के उपयोग के कारण धनवान लोगों में भी आयरन की कमी होने से एनीमिया पाया जाता है। उन्होंने कहा कि अमीरों तथा गरीबों को एनीमिया से बचाव के लिये अलग-अलग रणनीति बनाने की आवश्यकता है।

कार्यशाला में न्यूट्रिशियन इंटरनेशनल भोपाल की सुश्री रितु घोष ने बताया कि अधिकांशत: महिलाओं में माहवारी के कारण एनीमिया पाया जाता है अत: महिलाओं को आयरन तत्व से युक्त भोजन करना चाहिए । उन्होंने कहा कि भोजन के दो घण्टे पहले से दो घण्टे बाद तक चाय या कॉफी पीने से भोजन में शामिल लौह तत्व को शरीर शोषित नहीं कर पाता अत:इस बात का विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए कि भोजन के पहले व बाद में चाय या काफी नहीं पी जाये ।