मंगलवार को हनुमानजी के इस उपाय को करने से बनता है राजयोग

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 05-Sep-2017

अगर जीवन में कभी ऐसी समस्या आ जाए जिसका निदान नहीं हो और स्वयं के परिवार तथा जीवन पर ही संकट आ गया हो तो हनुमानजी के महामंत्र “हनुमान वड़वानल स्रोत” का पाठ करने मात्र से ही समस्त कष्टों से तुरंत ही मुक्ति मिलती है। इस स्त्रोत का उपयोग समस्त रोगों के निवारण, शत्रुभय से मुक्ति, दूसरों के द्वारा किए जा रहे तांत्रिक अभिचार, तांत्रिक कृत्या जनित परेशानियों तथा कुंडली में राजयोग बनाने हेतु किया जाता है।

यह प्रयोग स्वयंसिद्ध है अर्थात इस प्रयोग को करने में कोई विशेष सावधानी अथवा खर्चें की आवश्यकता नहीं है वरन केवल मात्र सच्चे मन और श्रद्धा से पाठ करने पर ही सभी समस्याओं, रोगों और चिंता का तुरंत ही समाधान होता है।

प्रयोग विधि
किसी भी मंगलवार या शनिवार के दिन स्नान-ध्यान आदि से शुद्ध होकर निकट के हनुमानजी के मंदिर में जाएं। वहां पर भगवान को पुष्प, चंदन तिलक, प्रसाद आदि अर्पित करें। तत्पश्चात एक मिट्टी के दीपक में सरसों के तेल का दीपक जलाएं। इसके बाद भगवान राम का स्मरण कर उनकी पूजा-अर्चना करें तथा मन ही मन हनुमानजी का स्मरण करते हुए नीचे दिए हनुमान वड़वानल स्त्रोत का पाठ करना आरंभ करें। इस प्रयोग को 41 दिन तक प्रतिदिन 108 बार पाठ करें।