शिक्षक विद्यार्थियों का भाग्य विधाता

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 05-Sep-2017

 शिक्षक दिवस की पूर्व बेला पर 101 शिक्षिकाएं सम्मानित



झांसी। बुंदेलखण्ड साहित्य संगीत कला संस्थान के तत्वावधान में शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर आज पत्रकार भवन में 101 शिक्षिकाओं का सम्मान समारोह विधान परिषद सदस्य श्रीमती रमा निरंजन के मुख्य आतिथ्त व जिला विद्यालय निरीक्षक डा नीरज पांडेय की अध्यक्षता में हुआ। इस मौके पर विशिष्ट अतिथि समाजसेवी इं. मयंक श्रीवास्तव रहे।

स्मारोह में श्रीमती निरंजन ने कहा कि शिक्षक राष्ट का निर्माता है वर्तमान समय में शिक्षा व शिक्षक के गिरते स्तर को उपर उठाना है। शिक्षक कर्मयोगी, राष्टवादी व समाज का पथ प्रदर्शक है। शिक्षक समाज का आइना है तथा भविष्य का निर्माता है जिसका पूरा विश्व सम्मान करता है।

हमें भी पूरे मनोयोग से शिक्षिकाओं का सम्मान करना चाहिये। अध्यक्षता कर रहे डा. नीरज कुुमार पांडेय ने डॉ राधाकृष्णन के महान व्यक्तित्व एवं दार्शनिक जीवन पर प्रकाश डालते हुए शिक्षिकाओं से ऐसे महान शिक्षाविद के पदचिंहों पर चलने का आहवान किया। शिक्षक-शिक्षिकाओं को राष्ट के विकास में शिक्षा की ज्योति जलाने में अपनी अहम भूमिका निभानी होगी। तभी हमारा राष्ट प्रगति कर पायेगा।

 स्मारोह में श्रीमती इन्द्रा गुप्ता, श्रीमती अर्चना सिंह, अनिल प्रभा द्विवेदी, स्वर्णा भदौरिया, कुसुम देवी, इन्द्रा दूरवार, अमृता गावडे, गायत्री गुप्ता, संध्या चतुर्वेदी, सुमन श्रीवास्तव, कल्पना सिंह, सुनीता तिवारी, संध्या त्रिपाठी, प्रेमा मिश्रा, अर्चना गुप्ता, अनीता कनौजिया,नजमा परवीन, सुनीता शुक्ला, अर्चना गौतम, सरिता कैथवास, वंदना पाठक, अंजू लता मिश्रा, ताबेद रशीदा, ज्योति इंद्रापुरकर, संजू मिश्रा, विनती पाठक्, गीता सेठ, किरन अग्रवाल, अनुष्का शर्मा व नाहिद खान समेत 101 शिक्षिकाओं को मुख्य संयोजक रवीश त्रिपाठी ने सम्मान पत्र देकर सम्मानित किया। संचालन अंकुर अग्रवाल ने किया।