कासगंज में हिंसा के बाद फिर तनावपूर्ण हालात, साध्वी प्राची धरने पर बैठी

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 27-Jan-2018

 

लखनऊ। प्रदेश के कासगंज जनपद में तिरंगा यात्रा के दौरान हुई साम्प्रदायिक झड़प में मारे गए युवक चंदन गुप्ता के आज अन्तिम संस्कार के बाद इलाके में फिर से हिंसा भड़क गई। कुछ असामाजिक तत्वों ने दुकान और एक धार्मिक स्थल में आग लगाकर माहौल बिगाड़ने की कोशिश की। हालांकि पुलिस बल और आरएएफ ने मौके पर पहुंचकर हिंसा करने वाले लोगों को खदेड़ा। आलाधिकारियों ने हालात नियंत्रण में होने का दावा किया है। अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था आनन्द कुमार ने राजधानी में बताया कि डीजीपी मुख्यालय हालात पर पूरी तरह से नजर रखे हुए है। आईजी डी.के. ठाकुर को मौके पर भेजा गया है। एडीजी आगरा जोन के साथ आईजी अलीगढ़ जोन भी मौके पर हैं। भारी पुलिस फोर्स को मौके पर तैनात किया गया है। उन्होंने कहा कि कानून व्यवस्था पूरी तरह से कायम है। लोगों में भरोसा कायम रखना हमारी पहली प्राथमिकता है। शरारती तत्वों की गिरफ्तारी होगी। घटना को लेकर थाना कोतवाली कासगंज पर तत्काल अभियोग पंजीकृत कर 09 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया जा चुका है एवं विशेष टीम का गठन कर शेष अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु हर सम्भव प्रयास किये जा रहे हैं। 

उधर, गणतंत्र दिवस पर तिरंगा यात्रा के दौरान हुए शुक्रवार के कासंगज में हुए सांप्रदायिक बवाल के बाद शनिवार को फिर से हिंसा और आगजनी के मामले सामने आए। इसे देखते हुए प्रशासन ने जिले की सीमाएं सील कर दी हैं। वहीं शहर में जिंदा बम मिलने से सनसनी फैल गई। साम्प्रदायिक झड़प में मारे गए युवक चंदन का अन्तिम संस्कार कासगंज स्थित काली नदी के किनारे बाकनेर में भारत विकास परिषद द्वारा बनाए गए मुक्ति धाम में किया गया। 
इससे पहले अन्तिम संस्कार करने से इनकार करने के बाद सांसद राजवीर सिंह ने वैश्य सभा के जिलाध्यक्ष की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बात कराई। तब जाकर युवक का अंतिम संस्कार हुआ, लेकिन अंतिम संस्कार से लौटते ही भीड़ उग्र हो गई। जुलूस के रूप में लौटते लोगों ने आसपास के खोखों और कई दुकानों में आग लगा दी। रास्ते में सब्जी के ठेलों को भी पलट दिया। भीड़ ने दुकानों में तोड़फोड़ करते हुए आग लगा दी। प्रशासन ने किसी तरह स्थिति को संभाला। वहीं इसके बाद शहर के लवकुश नगर इलाके में बम मिलने की सूचना मिली। आनन-फानन में मौके पर पहुंची बीडीएस की टीम ने उसे निष्क्रिय किया। 

अपर पुलिस महानिदेशक आगरा जोन अजय आनन्द ने बताया कुछ शरारती तत्वों ने माहौल बिगाड़ने की कोशिश की थी लेकिन स्थिति फिलहाल हमारे नियंत्रण में है। प्रशासन की ओर से लगातार लोगां से शान्ति बनाये रखने की अपील की जा रही है। पीएसी और आरएफ के जवानों के साथ वरिष्ठ अधिकारी शहर भर में गश्त कर रहे हैं। जल्द ही हालात सामान्य होने की उम्मीद है। बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भाजपा के जिलाध्यक्ष सहित विधायक और अन्य पार्टी नेताओं को फोन पर शान्ति बनाए रखने के निर्देश दिए हैं। 

इस बीच दोबारा हिंसा भड़कने के बाद पीएसी की पांच कंपनियां और आरएएफ की एक कंपनी को तैनात कर दिया गया है। हालात का जायजा लेने और स्थिति को नियंत्रित करने के लिए मंडलायुक्त अलीगढ़ मण्डल सुभाष चंद्र शर्मा, आईजी अलीगढ़ मण्डल डॉ. संजीव कुमार गुप्ता, एडीजी आगरा जोन अजय आनन्द, डीएम कासगंज आरपी सिंह, एसपी कासगंज सुनील कुमार सिंह, पीएसी, आरएएफ, सिविल पुलिस के साथ शहर में गश्त कर स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। मिश्रित आबादी वाले इलाकों और संवेदनशील इलाकों में सतर्कता बढ़ा दी गई है।उधर सांप्रदायिक हिंसा के बाद कासगंज जा रही साध्वी प्राची और उनके काफिले को सिकंदराराऊ पुलिस ने कासगंज रोड पर ही रोक लिया। बताया जा रहा है कि गाड़ी की चाबी निकालने से साध्वी प्राची के समर्थक आक्रोशित हो गए और उनकी पुलिस से बहस भी हुई। अपना विरोध दर्ज कराने के लिए साध्वी और उनके समर्थक पंत चौराहे पर धरने पर बैठ गई। पुलिस के बड़े अधिकारी मौके पर पहुंचकर उन्हें समझाने का प्रयास कर रहे हैं। 

इससे पहले शुक्रवार को तिरंगा प्रभात फेरी यात्रा के दौरान हिंसा में एक की मौत हो गई थी जबकि कई लोग घायल हो गए थे। आगजनी और तोड़फोड़ की जानकारी मिलते ही जिलाधिकारी राजेन्द्र प्रताप सिंह, एसपी सुनील कुमार सिंह पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे लेकिन उपद्रवियों पर काबू नहीं पाया जा सका। इसके बाद आस-पास के जनपदों की पुलिस फोर्स को तनावपूर्ण स्थिति देखते हुए तैनात कर दिया गया। उधर कासगंज में हुए उपद्रव के बाद एटा का प्रशासन भी अलर्ट हो गया है। कासगंज की ओर रोडवेज बस सहित जाने वाले सभी वाहनों को रोक दिया गया। कासगंज की सीमा पर चौकसी कर दी गई है जो वाहन पहुंच रहे है उनकी तलाशी की जा रही है। कासगंज रोड पर पुलिस का पिकेट लगा दिया गया है। किसी भी वाहन को जाने की छूट नहीं दी जा रही है। निजी वाहनों की भी चेकिंग की जा रही है।