लाल सलाम और लाल झंडे को अलविदा कहने का समय आ गया: अमित शाह

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 08-Jan-2018



मिजोरम, स्वससे। भारतीय जनता पार्टी के 7 कार्यकर्ताओं की हत्या इस राज्य में हुई है। अब यह हिंसा का चक्र काम नहीं करेगा, त्रिपुरा की जनता जाग चुकी है और अब सीपीएम को करारा जवाब मिलेगा। यह बात भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने त्रिपुरा स्थित उदपुर की एक रैली में कही। उन्होंने कहा कि राज्य कर्मचारियों को चौथा वेतन आयोग मिल रहा है। मैं वादा करता हूं कि त्रिपुरा में सरकार बनाने के बाद 7 वें वेतन आयोग की मंजूरी मिलेगी। शाह ने कहा कि त्रिपुरा सरकार भ्रष्टाचार के आकंठ में डूबी चुकी है, इनकी उलटी गिनती शुरू हो गई है और मार्च में, भाजपा त्रिपुरा में सरकार बनायेगी। शाह ने कहा कि हम किसानों की आय में वृद्धि की दिशा में काम करेंगे, रबर और जूट पर विशेष जोर देने के साथ जैविक उत्पादों को विकसित करने के अवसर प्रदान करेंगे।

शाह ने कहा कि मोदी सरकार के तहत केंद्रीय करों में त्रिपुरा का हिस्सा 7,283 करोड़ (13 वें वित्त आयोग) रुपए से 25,000 करोड़ (14 वां वित्त आयोग) तक बढ़ गया है। शाह ने कहा कि लाल झंडा और 'लाल सलाम' को अलविदा कहने का समय आ गया है। उन्होंने लोगों का शोषण किया है और राज्य को आवश्यक सहायता और विकास से वंचित किया है।

उन्होंने कहा कि त्रिपुरा की 37 लाख जनसंख्या में से 7 लाख से अधिक लोग बेरोजगारी सूची के तहत पंजीकृत हैं। यहां स्वास्थ्य सुविधाएं अपर्याप्त हैं। 25 साल में यहां यह किया गया था। शाह ने कहा कि त्रिपुरा में कम्युनिस्ट कुशासन के पिछले 25 वर्षों में, स्थिति खराब से बदतर हो गई है। कम्युनिस्टों ने गरीबी और बेरोजगारी फैला दी है।

शाह ने कहा कि त्रिपुरा की स्थिति इतनी बिगड़ गई है कि मुझे आश्चर्य है कि माणिक सरकार की सरकार ने इतने सालों में कोई काम नहीं किया! माणिक सरकार की उलटी गिनती शुरू हो गई है, जल्द ही बीजेपी की सरकार बनेगी और त्रिपुरा में लोगों की आकांक्षाओं को पूरी होगी। शाह ने कहा कि मोदी सरकार ने त्रिपुरा के लिए बहुत से धन जारी किए हैं लेकिन माणिक सरकार राज्य के विकास के लिए उन्हें इस्तेमाल करने में नाकाम रही है।