महात्मा गांधी की हत्या की दोबारा जांच नहीं

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 08-Jan-2018

नई दिल्ली। देश राष्ट्रपिता कहे जाने वाले महात्मा गांधी की हत्या की जांच अब दुबारा कभी नहीं होगी। न्याय मित्र अमरेन्द्र शरण ने उच्चतम न्यायालय को आज बताया कि छह दशक के बाद महात्मा गांधी की हत्या की दोबारा जांच की उन्हें जरूरत महसूस नहीं होती।

न्यायमित्र की रिपोर्ट में कहा गया कि इसका कोई सबूत नहीं मिलता है रिपोर्ट में ये भी कहा गया कि चौथी गोली की थ्योरी भी किसी भी तरह साबित नहीं होती है। इससे जुड़ा कोई भी साक्ष्य नहीं मिला है।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद 4,000 पन्नों की ट्रायल कोर्ट की रिपोर्ट और साल 1969 की जीवन लाल कपूर इंक्वायरी कमीशन की रिपोर्ट के आधार पर एमीकस क्‍यूरी ने अपनी रिपोर्ट तैयार की है। रिपोर्ट में कहा गया कि इस मामले में दोबारा जांच की जरूरत नहीं है। याचिका में दावा किया गया कि बापू की हत्या एक रहस्यमय शख्स ने की है। उस शख्स ने 'चौथी गोली' चलाई थी, जो गांधी की मौत के लिए जिम्मेदार थी।