मणिशंकर अय्यर की पार्टी से प्राथमिक सदस्यता करें समाप्त

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 13-Feb-2018

नई दिल्ली। पूर्व सांसद और कांग्रेस नेता हनुमंत राव ने पार्टी के निलंबित नेता मणिशंकर अय्यर के खिलाफ पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी से पत्र लिखकर अय्यर की प्राथमिक सदस्यता खत्म करने की मांग करने का फैसला किया है। हनुमंत राव के अनुसार, मणिशंकर अय्यर समय-समय पर पार्टी की किरकिरी कराते रहे हैं| यहां तक कि गुजरात चुनाव के बाद वह कर्नाटक में भी कांग्रेस को चुनाव हराना चाहते हैं। इसलिए उन्हें पार्टी से पूरी तरह से बाहर का रास्ता दिखाया जाना चाहिए। 

उल्लेखनीय है कि अय्यर ने हाल ही में भारत और पाकिस्तान के बीच मुद्दों के समाधान के लिए निर्बाध बातचीत की पैरवी की है। अय्यर ने पाकिस्तान कराची साहित्य महोत्सव में हिस्सा लेने के दौरान कहा था कि भारत-पाकिस्तान मुद्दों को हल करने के लिए एक ही रास्ता है और यह रास्ता निर्बाध बातचीत का है। इतना ही नहीं अय्यर ने कहा है कि उन्हें पाकिस्तान में जितना प्यार मिलता है हिन्दुस्तान में उतनी ही नफरत का सामना करना पड़ता है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में आकर उन्हें काफी प्रेम मिलता है। 

उनके इसी बयान पर भड़के हुए हनुमंत राव ने कहा कि मणिशंकर अय्यर को पार्टी ने सब कुछ दिया लेकिन, उन्होंने हमेशा अपने बयानों से पार्टी को नुकसान ही पहुंचाया है। मणिशंकर अय्यर के पहले बयान के चलते कांग्रेस को गुजरात विधानसभा चुनाव में तमाम जनसमर्थन के बावजूद हार का सामना करना पड़ा। अब अय्यर फिर से पाकिस्तान प्रेम वाला बयान देकर कर्नाटक चुनाव हराना चाहते हैं। राव ने दावा किया कि अय्यर पूरी तरह बहक गए हैं| उन्हें नहीं पता चलता है कि कब और कहां क्या बोलना है। उनके बयानों से पार्टी को भारी नुकसान उठाना पड़ता है। राव ने कहा कि वह चाहते हैं कि पार्टी उन्हें प्राथमिक सदस्यता भी न दे। इसे लेकर वह कांग्रेस अध्यक्ष को एक पत्र लिखने जा रहे हैं। 

उल्लेखनीय है कि गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान मणिशंकर अय्यर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए 'नीच' शब्द प्रयोग किया था, जिसे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने जोर-शोर से उठाया था। बयान पर बवाल होने के बाद उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया था| लेकिन, कांग्रेस को गुजरात विधानसभा चुनावों में हार का सामना करना पड़ा। इससे पहले अय्यर ने 2014 लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चाय वाला कहकर भी संबोधित किया था। जिस पर पार्टी की काफी किरकिरी हुई थी।