कहीं बीमार न बना दे, मनोरंजन की यह आदत

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 03-Feb-2018

हर ईयरफोन में हाई डेसीबल वेव्स होते हैं। इसका इस्तेमाल करने से आप हमेशा के लिए अपनी सुनने की क्षमता खो सकते हैं इसलिए 90 डेसीबल से अधिक आवाज में गाने न सुनें और ईयरफोन से गाने सुनने के दौरान समय-समय पर ब्रेक भी लेते रहें। ईयरफोन्स के लगातार प्रयोग से सुनने की क्षमता 40 से 50 डेसीबेल तक कम हो जाती है।
जब हम ईयरफोन का यूज करते है तो उसकी ध्वनि हवा में कंपन से पैदा होती है। जब कंपन कान के पर्दों पर पड़ती है, तो हमें कुछ भी सुनाई नहीं देता है। हेडफोन पर तेज आवाज में गाना सुनने से कान के पर्दों पर लगातार तेज आघात होता है, जिससे बाहर की आवाज सुनाई नहीं देती। इससे दिमाग तेज आघात को सहने की क्षमता विकसित कर लेता है।

कुछ लोगों की आदत होती है कि वे हेडफोन लगाकर टॉयलेट चले जाते हैं। कहीं भी हेडफोन को रख देते हैं। ऐसा करने से हेडफोन में हानिकारक बैक्टीरिया चिपकने का डर रहता है। इससे कानों में संक्रमण होने की समस्या बढ़ सकती है।