रविशंकर, जावड़ेकर, प्रधान सहित सात मंत्री पहुंचे राज्यसभा

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 16-Mar-2018

नई दिल्ली, ब्यूरो। राज्यसभा चुनाव में रविशंकर प्रसाद, जेपी नड्डा, धर्मेंद्र प्रधान और प्रकाश जावड़ेकर सहित सात केंद्रीय मंत्री निर्विरोध चुन लिए गए जबकि वित्त मंत्री अरुण जेटली को उत्तर प्रदेश में चुनाव का सामना करना पड़ेगा। राज्यसभा के द्विवार्षिक चुनाव के लिए रिक्त 58 सीटों के लिए नामांकन के बाद गुरुवार को नाम वापस लेने का आखिरी दिन था। कुल 16 में से 10 राज्यों में निर्विरोध चुनाव हो गया। अब छह राज्यों में 23 मार्च को मतदान से फैसला होगा।

उप्र में अब होगा मतदान

यहां भाजपा के दो उम्मीदवारों ने अपना नाम जरूर वापस ले लिया लेकिन, उसके नौवें उम्मीदवार के मैदान में डट जाने से लड़ाई रोमांचक हो गई है। वैसे तो दसवीं सीट के लिए बसपा ने अपने प्रत्याशी भीमराव अंबेडकर के लिए पर्याप्त मतों का दावा किया है लेकिन, सपा के एक मत पर भाजपा के हक जताने से सारा खेल जोड़-तोड़ पर टिक गया है। सपा सांसद नरेश अग्रवाल के पाला बदलने से भाजपा उनके बेटे सपा विधायक नितिन अग्रवाल के मत को अपना मान रही है। ऐसे में सेंधमारी का खतरा बढ़ा है। यहां सपा ने जया बच्चन को प्रत्याशी बनाया है।

रविशंकर चौथी बार पहुंचे राज्यसभा

बिहार में जदयू से महेंद्र सिंह सातवीं बार और भाजपा से केंद्रीय विधि एवं न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद लगातार चौथी बार उच्च सदन के सदस्य बने हैं। इनके अलावा जदयू से प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह, कांग्रेस के अखिलेश सिंह, राजद के मनोज झा और अहमद अशफाक करीम राज्यसभा के सदस्य चुने गए।

 मप्र से भाजपा को मिले चार सांसद

मध्यप्रदेश की पांच सीटों के लिए भाजपा के चार और कांग्रेस का एक राज्यसभा प्रत्याशी गुरुवार को निर्विरोध निर्वाचित हो गए। भाजपा से सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत, पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, कैलाश सोनी, अजय प्रताप सिंह और कांग्रेस से राजमणि पटेल निर्वाचित हुए हैं। छत्तीसगढ़ में एकमात्र सीट के लिए भाजपा की सरोज पांडेय का कांग्रेस के लेखराम साहू से मुकाबला होगा।