भारी हंगामे के चलते लोकसभा की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 20-Mar-2018


नई दिल्ली।
लोकसभा में विपक्षी दलों के सदस्यों मंगलवार को 12वें दिन भी जमकर हंगामा किया और इराक में बंधक बनाए गए भारतीयों के मारे जाने की सूचना देने के आग्रह को भी नहीं माना तो अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने सदन की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित कर दी।

एक बार के स्थगन के बाद 12 बजे जैसे ही सदन की कार्यवाही दोबारा शुरू हुई तो अन्नाद्रमुख के सदस्य कावेरी जल विवाद पर अपनी मांग को लेकर हाथों में बैनर लिए फिर अध्यक्ष के आसन के सामने आ गए। तेलुगु देशम पार्टी तथा वाईएसआर कांग्रेस के सदस्य आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की अपनी मांग के समर्थन में अपनी जगह खड़े हो गए।

अध्यक्ष ने हंगामें के बीच ही जरूरी कागजात सदन के पटल पर रखवाए। पूर्वाह्न 11 बजे कार्यवाही के आरंभ होने पर अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने प्रश्नकाल की घोषणा की। लेकिन तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) और अन्नाद्रमुक के सदस्यों ने आसन के सामने आकर नारेबाजी शुरू कर दी जबकि कांग्रेस एवं तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों ने अपने स्थान से ही अपने मुद्दे जोर शोर से उठाए।
ये
 सदस्य हाथों में बैनर और प्लेकार्ड लिये हुए थे। अध्यक्ष ने सदस्यों से अपनी-अपनी सीट पर जाने का आग्रह किया, लेकिन हंगामा जारी रहा। अंतत: उन्होंने एक मिनट के भीतर सदन की कार्यवाही 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी। इस प्रकार लगातार 12वें दिन सदन में प्रश्नकाल नहीं हो सका। बजट सत्र के दूसरे चरण के पांच मार्च से शुरू होने के दिन से ही सदन में कई मुद्दों को लेकर गतिरोध जारी है।

नारेबाजी के बीच महाजन ने कहा कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज सदन को इराक के मोसूल में अपहृत भारतीयों के बारे में जरूरी सूचना देना चाहती हैं। यह सुनते ही पूरा विपक्ष हंगामा करने लग गाया। कांग्रेस और वाम दलों के सदस्यों सहित सभी विपक्षी सदस्य विरोध में खड़े हो गए और जमकर नारेबाजी और हंगामा करने लगे।

पूरा विपक्ष विदेश मंत्री की बात सुनने को तैयार नहीं था। इसी बीच स्वराज अपनी सीट पर खड़ी हो गई और उन्होंने कहा कि वह इराक में बंध बनाए गए भारतीयों के बारे में सदन को एक अशुभ सूचना देना चाहती हैं लेकिन सदन जब तक शांत नहीं होगा वह अपनी बात नहीं रखेंगी क्योंकि यह बात बहुत संजीदा है। अध्यक्ष ने भी सदस्यों से इस पर संवदेनशीलता दिखाने का सदस्यों से आग्रह किया।