स्मार्ट इंडिया हैक्थोन-2018 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय पर होगा विचार-विमर्श

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 29-Mar-2018

नई दिल्ली। जयपुर इंजीनियरिंग कॉलेज एंड रिसर्च सेंटर में 30 और 31 मार्च को जयपुर में होने जा रहे स्मॉर्ट इंडिया हैक्थोन 2018 के ग्रैंड फिनाले में सूचना और प्रसारण मंत्रालय की समस्याओं से संबंधित बयानों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। जयपुर समूचे देश में बनाए गए 28 नोडल केंद्रों में से एक है, जहां ग्रैंड फिनाले का आयोजन अन्य स्थानों के साथ एक ही समय किया जाएगा। इसमें विभिन्न मंत्रालयों/विभागों से संबंधित समस्याओं पर विचार-विमर्श होगा। सूचना और प्रसारण मंत्रालय इस कार्यक्रम में ‘प्रमुख भागीदार’ है।

स्मॉर्ट इंडिया हैक्थोन 2018 का लक्ष्य विद्यार्थियों की रचनात्मकता और विशेषज्ञता को बढ़ावा देना, ‘स्टार्ट अप इंडिया, स्टैंड अप इंडिया’ अभियान के लिए आधार तैयार करना, शासन और जीवन की गुणवत्ता में सुधार के लिए समाधान सुझाना और नागरिकों को भारत की ज्वलंत समस्याओं के समाधान में नवीन सुझाव देने के लिए आमंत्रित करना है। जयपुर में आयोजित होने वाले ग्रैंड फिनाले में विद्यार्थी सूचना और प्रसारण मंत्रालय के 16 समस्या वक्तव्यों के बारे में रचनात्मक समाधान तलाश करने का प्रयास करेंगे। मंत्रालय प्रतिभागी टीमों और समस्या वक्तव्य तैयार करने वाले व्यक्तियों के बीच वीडियो कांफ्रेंसिंग सत्र का आयोजन पहले ही कर चुका है, ताकि विद्यार्थी अपने संदेह दूर कर सकें और समाधान विकसित करने के लिए बेहतर ढंग से अपने को तैयार कर सकें।

जयपुर ग्रैंड फिनाले में हिस्सा लेने के लिए 52 टीमों का चयन किया गया है| इनमें करीब 400 विद्यार्थी भाग लेंगे। प्रथम पुरस्कार एक लाख रुपये, द्वितीय पुरस्कार 75 हजार रुपये और तृतीय पुरस्कार 50 हजार रुपये का रखा गया है। स्मार्ट इंडिया हैक्थोन 2018 का आयोजन मानव संसाधन विकास मंत्रालय के तत्वावधान में अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) द्वारा आई4सी, माईजीओवी, परसिस्टेंट सिस्टम्स और रामभाऊ म्हाल्गी प्रबोधिनी के सहयोग से किया जा रहा है। 27 केंद्रीय मंत्रालय और विभाग तथा 17 राज्य सरकारें इस विशाल आयोजन में भाग ले रही हैं। एसआईएच 2018 अपने पिछले 2017 के संस्करण की तुलना में काफी बड़ा होगा। इसमें दो उप-संस्करण जोड़े गए हैं|इनमें से एक सॉफ्टवेयर संस्करण है, जो 36 घंटे की सॉफ्टवेयर डिवेल्पमेंट प्रतियोगिता होगी| उसका आयोजन 30 और 31 मार्च, 2018 को किया जाएगा। दूसरा उप-संस्करण हार्डवेयर से संबंधित है, जो हार्डवेयर समाधान के लिए इस वर्ष बाद में आयोजित किया जाएगा।

सॉफ्टवेयर संस्करण ग्रैंड फिनाले के दौरान प्रौद्योगिकी विद्यार्थियों की टीमें केंद्र सरकार के विभिन्न मंत्रालयों/विभागों द्वारा प्रस्तुत की गई समस्याओं के लिए नवीन डिजिटल समाधान विकसित करेंगी। कुल मिलाकर चुनी हुई 1282 टीमों के 10250 से अधिक विद्यार्थी 340 समस्या वक्तव्यों पर विचार करेंगे।
स्मॉर्ट इंडिया हैक्थोन 2018 भारत में अपनी तरह का दूसरा सबसे बड़ा कार्यक्रम होगा। इससे पहले, स्मॉर्ट इंडिया हैक्थोन 2017 आयोजित किया गया था। विजेताओं को नकद पुरस्कार मिलेंगे और नेसकोम के 10 हजार स्टार्ट अप प्रोग्राम का हिस्सा बनने का अवसर मिलेगा।