न्यू इंडिया के निर्माण का दायित्व अनुसंधान और अन्वेषण में लगे युवाओं पर

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 31-Mar-2018

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को यहां कहा कि न्यू इंडिया (नए भारत) के निर्माण का दायित्व अनुसंधान और अन्वेषण में लगे युवाओं पर है। स्मार्ट इंडिया हैकॉथॉन 2018 (सॉफ्टवेयर संस्करण) के अंतिम चरण में भागीदारों को संबोधित करते हुए कहा कि इस तरह के आयोजन समस्याओं की जड़ में जाकर और लीक से हटकर समाधान खोजने का सबसे अच्छा तरीका है। उन्होंने प्रसन्नता व्यक्त की कि इस बार के आयोजन में करीब एक लाख युवाओं ने हिस्सा लिया जबकि पिछली बार यह संख्या 40 हजार थी। 

उन्होंने संतोष व्यक्त किया कि पिछले हैकॉथान आयोजन में जिन 60 प्रोजेक्टों को लिया गया था उनमें से आधे पूरे हो गए हैं तथा शेष अगले कुछ दिनों में पूरे हो जायेंगे। मोदी ने कहा कि हमें नवीन अविष्कार तैयार करने होंगे, उन्हें पेटेंट कराना होगा, उनका उत्पादन आसान बनाना होगा और फिर इसे लोगों तक ले जाना होगा। उन्होंने कहा कि दुनिया में किसी के पास भी सारा ज्ञान नहीं है। यही नियम सरकारों पर भी लागू होता है। ऐसे में किसी सरकार का यह सोचना की वह अकेले अपने दम पर बहुत कुछ कर सकती है, गलत है। 

उन्होंने कहा कि श्रम और इच्छा शक्ति हमारी संपत्ति है। हमें समस्या की जड़ में जाकर अलग हल निकालना होगा। स्मार्ट इंडिया हैकॉथान 2018 के दूसरे संस्करण में 1,200 महा विद्यालयों के 1 लाख से अधिक छात्र भाग ले रहे हैं जो कि एक कीर्तिमान है। अगले 36 घण्टों में 28 केंद्रों में 8,000 से ज्यादा छात्र अंतिम आविष्कारों के लिये काम करेंगे। यह छात्र अपने आविष्कारों को 6 लोगों के समूह में लिखेंगे, जिस पर वे पिछले 4 महीनों से कठोर परिश्रम कर रहे थे।