सीबीएसई पेपर लीक मामले में अब तीन और गिरफ्तार

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 12-Apr-2018

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की विशेष जांच टीम ने 10वीं के गणित पेपर लीक मामले में तीन और लोगों को गिरफ्तार किया है। इनकी गिरफ्तारी पिछले सप्ताह ऊना (हिमाचल प्रदेश) से गिरफ्तार किए गए केंद्र अधीक्षक राकेश कुमार से पूछताछ के आधार पर की गई है। गिरफ्तार किए गए आरोपियों में से एक बैंक प्रबंधक, एक सीनियर कैशियर और एक महिला है। महिला का बेटा इस वर्ष 10वीं की परीक्षा में शामिल हुआ था। शुरुआती जांच में पुलिस पेपर लीक मामले में पैसे के लेनदेन से इनकार कर रही है। 

क्राइम ब्रांच के संयुक्त आयुक्त आलोक कुमार ने गुरुवार को दिल्ली पुलिस मुख्यालय में प्रेसवार्ता कर बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपियों में से 35 साल के शेरू राम, जोकि यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, ऊना शहर में शाखा प्रबंधक के तौर पर कार्यरत है। इसी शाखा के सीनियर कैशियर (वरिष्ठ खजांची) 58 साल के ओम प्रकाश और एक महिला है। महिला फिरोजपुर पंजाब की रहने वाली है और यह राकेश कुमार की रिश्तेदार है। आरोप है कि इसी महिला ने 12वीं के अर्थशास्त्र और 10वीं के गणित के पेपर को व्हाट्सऐप के जरिए अपने जानकारों को भेजा था, जिसके बाद यह पेपर देश के कई हिस्सों में परीक्षा से पहले ही वायरल हो गया था। 

अपने छात्र से लिखवाया था पेपर

आलोक कुमार ने बताया कि पूछताछ में आरोपी राकेश कुमार ने कबूला कि जिस दिन (23 मार्च) वह कंप्यूटर साइंस का पेपर बैंक के लॉकर से लेने गया था, उसी दिन उसने अर्थशास्त्र का और गणित के पेपर का एक-एक बंडल अपने साथ ले आया। बाद में उसने एक पेपर निकाल कर अपने मोबाइल से फोटो खींचा। उसके बाद बंडल को उसी प्रकार से सील कर दिया। कुछ सयम बाद उसने अपने एक छात्र को बुलाया और उस पेपर को हाथ से लिखवाया।

उसके बाद उसने फिरोजपुर में रहने वाली एक रिश्तेदार को व्हाट्सऐप के जरिए भेजा, जिसका बेटा इस वर्ष दसवीं की परीक्षा दे रहा था। राकेश पकड़ा ना जाए, इसके लिए उसने अपने मोबाइल फोन से सभी फोटो डिलीट भी कर दिये। 

महिला ने भी अपने रिश्तेदारों को भेजा

फिरोजपुर से गिरफ्तार की गई महिला आरोपी ने बाद में पंचकूला में रहने वाली अपनी एक बहन को भेजा, जिसके बाद दिल्ली के पश्चिम विहार स्थित एक अन्य रिश्तेदार को पेपर भेजा गया। इन सब के बच्चे भी इस साल बोर्ड की परीक्षा दे रहे थे। इस प्रकार से पेपर कई व्हाट्सऐप ग्रुप में वायरल हो गया।