श्रीमद् देवी भागवत कथा: आतंकवाद रूपी बीज को जड़ से नष्ट करना होगा

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 16-Apr-2018

मनोरंजनालय में देवी भागवत के समापन में अदिति भारती ने कहा...

ग्वालियर, न.सं.। श्रीमद् देवी भागवत कथा के श्रवण से मानव का जीवन देवीय गुणों से शुद्ध करने का प्रयास इन नौ दिवसों में किया गया। कथा के माध्यम से ज्ञान की प्राप्ति मिले और जो आतंकवाद रूपी बीज आज पनप रहा है, उसे जड़-मूल से नष्ट करना होगा। कथा सुनने की कहानी नहीं बल्कि अपने अंतर्मन के विचारों को बदलने का माध्यम है। यह विचार आशुतोष महाराज की शिष्या सुश्री अदिति भारती ने रविवार को हजीरा मनोरंजनालय मैदान में चल रही श्रीमद् देवी भागवत कथा के समापन अवसर पर वेद व्यास गद्दी से व्यक्त करते हुए कहे। इस अवसर हरियाणा के राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी ने कथा का दीप प्रज्वलन किया। श्रीमद् देवी भागवत कथा के अंतिम दिन सुश्री अदिती भारती ने मां की अनेकों लीलाओं की गाथा बताईं  सुश्री अदिति भारती ने बताया  कि जगत जननी मां का रूप काला नहीं बल्कि लोगों के मनों में पनप रही दुराचारी प्रव्रत्ति को मिटाने के लिए उन्होंने काला रूप रखा। सुश्री अदिति भारती ने सुमेरू पर्वत और विन्ध्य पर्वत की कहानी बताते हुए कहा कि सुमेरू पर्वत वह है जिसकी हर रोज सूर्य परिक्रमा करते हैं और सृष्टि का केन्द्र बिन्दु है। सुश्री अदिति भारती ने अम्बाह यज्ञ के बारे में बताया कि यह यज्ञ वातारण को शुद्ध करता है जो द्रव्यों में श्रेष्ठ है लेकिन हमें वातावरण शुद्धि के साथ संकल्प लेना होगा कि मन को भी शुद्ध और पवित्र करें। वहीं दिव्य ज्याति जाग्रति संस्थान के सचिव स्वामी नरेन्द्रानंद जी ने बताया कि संस्था द्वारा गौ रक्षा, विकलांग, पर्यावरण, जल एवं युवाओं में जाग्रति लाने का काम किया जा रहा है। कार्यक्रम का आभार व्यक्त करते हुए कार्यक्रम अध्यक्ष राजेश सोलंकी ने सभी का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए बताया कि नौ दिनों की कथा में जो आनंद क्षे़़़त्रवासियों को मिला वह ईश्वरीय शक्ति थी। बिना ईश्वर के कुछ भी संभव नहीं है।

इन्होंने की आरती

इस अवसर पर राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी, श्रीमती रानी सोलंकी, कार्यक्रम अध्यक्ष राजेश-रचना सोलंकी, श्रीमती  ज्योति चौहान, प्रबल सोलंकी, संगीता देशपाल सिंह, अभय-रूचि सोलंकी, अशोक सिंह, राकेश जादौन साडा अध्यक्ष, अरुण सिंह तोमर, अभिन्यु सिंह सेंगर, श्रीमती ऊषा ठाकुर, राजीव त्रिपाठी एवं  सुरेन्द्र परिहार आदि ने आरती की।

कथा में संपूर्ण हृदय परिपूर्ण हो गया है: प्रो.सोलंकी

श्रीमद् देवी भागवत कथा में राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी ने कहा कि जब किसी कार्यक्रम से हृदय भर जाता है तो बुद्धि काम नहीं करती और इस कथा में संपूर्ण हृदय परिपूर्ण हो गया है। व्यक्ति का शरीर अस्थाई है लेकिन स्थाई आत्मा होती है। राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी ने कहा कि दिव्य दृष्टि देने का कार्य जो नौ दिनों से जाग्रति संस्थान द्वारा किया जा रहा है जिसके माध्यम से धरा को स्वर्ग बनाया जा सके इसके लिए हम सभी को संकल्पित होना पड़ेगा। हमारा देश आस्था, संस्कृति, परंपरा एवं माता-पिता के लिए जाना जाता है। डिप्रेशन में एक दूसरे के दुश्मन बन रहे हैं। राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी ने कहा कि आज सभी देशवासियों में आस्था जाग्रत करनी होगी जिससे ज्ञान जागता है और स्वर्ग बनाया जा सके। हम भाग्यशाली हैं कि नौ दिनों तक देवी भागवत कथा श्रवण किया। ग्वालियरवासी सत्य के धनी हैं और इसका पूरी तरह आचरण का संकल्प लेते हैं।

आतंकवाद विश्व को निगल रहा है

सुश्री अदिति भारती ने कहा कि  आज आतंकवाद पूरे विश्व में हावी है। सुश्री अदिति भारती ने 26-11 की घटना, मुंबई सीरियल बम्ब ब्लास्ट एवं वर्ल्डट्रेड की घटनाओं को याद दिलाते हुए कहा कि यह वही रक्तबीज हैं जो चण्ड-मुण्ड और शुंभ निशुंभ की तरह रक्त बीज को बढा रहे हैं और समाज से एक आतंकवादी खत्म करने पर अनेकों आतंकवादी खड़े हो जाते हैं। हर बीतते दिन के बाद आतंकी घटना बढ़ती जा रही है। पहले डांकू हुआ करते थे जिनका ठिकाना था और उन्हें ढूंडा जा सकता था लेकिन यह आतंकवादी  समाज के बीच में ही रहकर अपराध की घटनाआें को बढ़ा रहे हैं। इन्हें जड़मूल से नष्ट करना होगा। यह आतंकवाद आज कैंसर की तरह समाज और देश में फैल चुका है जो अवैध धंधे और अश्लीलता फैलाकर युवाओं को अपनी गिरफ्त में लेकर आतंकी जैसी घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि  युवाओं को धर्म की क्रांति के माध्यम से जाग्रति करना होगा। इस मौके पर अदिति भारती ने पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए वृक्षारोपण भी किया।