व्यक्तित्व विकास

चांदी की परत

प्राचीन नगर का एक बहुत धनी युवक धर्म गुरू के पास गया और पूछा कि उसे अपने जीवन में क्या करना चाहिए? धर्म गुरू उस धनी युवक को अपने कमरे..

बेकार की तपस्या

ऋषि भारद्वाज के पुत्र यवक्रीत को अपनी विद्वता पर काफी अभिमान था। वह सोचते थे कि अगर उन्होंने थोड़ी और विद्वता अर्जित ..

सत्कार और तिरस्कार

एक थका माँदा शिल्पकार लंबी यात्रा के बाद किसी छायादार वृक्ष के नीचे विश्राम के लिये बैठ गया। अचानक उसे सामने एक पत्थर का टुकड़ा पड़ा दिखाई दिया। उसने ..

कितने तरह के होते हैं इंसान

मनुष्य चार तरह के होते हैं। यह बात स्वामी रामकृष्ण परमहंस के एक प्रेरक प्रसंग से मिलती है। एक बार परमहंसदेव अपने शिष्यों के साथ नदी किनारे टहल रहे थे। ..

काम में संलग्नता

गुरुकुल में अपनी शिक्षा पूरी करके एक शिष्य अपने गुरु से विदा लेने आया। गुरु ने कहा- वत्स, यहां रहकर तुमने शास्त्रों का समुचित ज्ञान प्राप्त..

चिंता नहीं, चिंतन कीजिए

भारतवर्ष में सम्राट समुद्रगुप्त प्रतापी सम्राट हुए थे। लेकिन चिंताओं से वे भी नहीं बच सके। और चिंताओं के कारण परेशान से रहने लगे। चिंताओं का चिंतन करने ..

मृत्यु से भी बड़ा होता है प्रेम

भगवान बुद्ध एक बार उपदेश देने एक गांव में पहुंचे। वहां उनके पड़ाव का अंतिम दिन था। तब वह उस गांव के एक व्यक्ति के यहां पहुंचे। वो ..

क्या करोगे यश लेकर

किसी शहर में बहुत दूर से एक विद्वान पहुंचा। उसने लोगों से कहा कि वह यहां के विद्वानों से शास्त्रार्थ करना चाहता है। कुछ लोग उसे शहर के प्रमुख विद्वानों के पास ..

ज्ञान का महत्व

एक जौहरी के निधन के बाद उसका परिवार संकट में पड़ गया। खाने के भी लाले पड़ गए। एक दिन उसकी पत्नी ने अपने बेटे को नीलम का एक हार ..

मन के कांटे

सेठ अमीचंद के पास अपार धन-दौलत थी। उसे हर तरह का आराम था लेकिन उसके मन को शांति नहीं मिल पाती थी। हर पल उसे कोई न कोई चिंता परेशान..

कोयला और चंदन

हकीम लुकमान का पूरा जीवन जरूरतमंदों की सहायता के लिए समर्पित था। जब उनका अंतिम समय नजदीक आया तो उन्होंने अपने बेटे को बुलाया और कहा- ..

ऐसे मिलेगा अच्छा जीवन

जर्मनी में एक बालक विलहेम पढ़ने से जी चुराता था। उसकी मां जब उसे स्कूल ले जाती तो वह नखरे करता। स्कूल में भी पढ़ता कम और शरारत..

ये है इंसान का सर्वश्रेष्ठ गुण

एक दिन संयोग से एक तंग रास्ते में काशी नरेश और कौशल नरेश के रथ आमने-सामने आ पहुंचे। दोनों असमंजस में थे कि दोनों में से पहले रास्ता कौन..

जहां धर्म वहां विजय

रूप नगर में एक दानी और धर्मात्मा राजा राज्य करता था। एक दिन उसके पास एक साधु आया और बोला, आप बारह साल के लिए मुझे..

मन में हलचल दूर करने के अचूक उपाय हैं संयम एवं शांति

महात्मा बुद्ध अपने शिष्यों के संग जंगल से गुजर रहे थे। दोपहर को एक वृक्ष के नीचे विश्राम करने रुके। उन्होंने शिष्य से कहा, प्यास लग रही है, कहीं पानी मिले,..

एक तमाचा, वो जिंदगी भर नहीं भुला सका

एक बार दो दोस्त रेगिस्तान के रास्ते अपने घर जा रहे थे। रास्ते में दोनों में कुछ कहा-सुनी हो गई। बात इतनी बढ़ गई की उनमे से एक मित्र ने दूसरे के गाल पर..

सकारात्मक सोच से जीवन को बनाये खुशहाल

आप जीवन के किसी भी क्षेत्र में सफल तभी हो सकते हैं जब आप अपनी काबिलियत का सौ प्रतिशत इस्तेमाल करें। अगर आप थोड़ी सी परेशानियों से घिरने पर खुद की क्षमताओं पर ही.........

समाज के अनसुलझे प्रश्नों का उत्तर दे सकता है विज्ञान : डॉ. हर्षवर्धन

केन्द्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने शुक्रवार को दिल्ली के प्रगति मैदान में विज्ञान एवं तकनीक विभाग के मंडप का उद्घाटन किया। इस .......