विचार

पत्थरबाजों के मानवाधिकारप्रमोद भार्गव

यह भारत जैसे ही देश में संभव है कि आतंकवादियों को संरक्षण देने वाले किसी व्यक्ति को मुआवजा देने की सिफारिश कोई आयोग करे। जम्मू-कश्‍मीर मानवाधिकार आयोग ने एक अजीबो-गरीब फैसला दिया है। आयोग ने राज्य सरकार से सेना द्वारा मानव ढाल बनाए गए पत्थरबाज फारूख..

भगवान से भी श्रेष्ठ हैं गुरु

गुरू पूर्णिमा भारत वर्ष में आषाढ़ मास की पूर्णिमा को धूमधाम से मनाई जाती है। इस दिन गुरुओं और व्यास की पूजा की जाती है। व्यास पराशर ऋषि के पुत्र कृष्ण द्वैपायन का उपनाम है। कृष्ण द्वैपायन ने वेदों को पृथक-पृथक करके चार भागों में विभाजित किया था इसलिए इन्हे..

अब खैर नहीं इस्लामिक आतंकवाद की,मोदी-ट्रंप साथ-साथ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की व्हाइट हाउस में हुई पहली मुलाकात से ही दोनों के बीच एक प्रकार की आत्मीयता और निकटता भी दिखाई दी। इसमें कोई शक नहीं है कि दो बड़े नेताओं के बीच निजी संबंध विकसित होने से उनके देशों के संबंध..

चीन की महत्वाकांक्षाओं पर विराम की दरकार

असम में भूपेन हजारिका पुल के उद्घाटन के बाद चीन ने भारत को 'संयमित' रहने की चेतावनी दी है। राम जाने, हमारे वैदेशिक संबंध संभालने वाले इस पर क्या कहेंगे? किन्तु लंबे समय से अंतरराष्ट्रीय संबंधों का अवलोकन करने वालों के लिए कुछ बातें बिल्कुल स्पष्ट हैं। पहल..

गोरखा मोर्चे का अलगाववाद

दार्जिलिंग में चल रहे गोरखा आंदोलन ने जो हिंसक रूप धारण किया है, उसके लिए कौन जिम्मेदार है ? गोरखा जनमुक्ति मोर्चा का कहना है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी मोर्चे के तीन कार्यकर्त्ताओं की मौत और दर्जनों कार्यकर्ताओं के बुरी तरह से घायल होने क..

किसान-आंदोलन, कुछ अच्छी पहल

  मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्रियों को बधाई कि उन्होंने अपने किसानों की सुध ली। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने तो किसी आंदोलन का इंतजार किए बिना ही किसानों को बिना ब्याज के 32 हजार करोड़ रुपये के कर्ज की माफी की घोषणा कर दी। उत्तरप्रदेश सरकार ने..

कश्मीर न बन जाए केरल

केरल के कन्नूर जिले में पिछले सप्ताह बछड़े को काटने की नृशंस घटना ने देश के लिए यह संदेश दिया है कि 'गॉड्स ओन कंट्री' यानी 'ईश्वर का अपना देश' केरल अब कश्मीर बनने की राह पर बढ़ा चला जा रहा है। यह कोई मामूली घटना नहीं है, इसलिए इस पर ओछी राजनीति न हो तो बेह..

मानव ढाल: कश्मीर में सेना के युवा अधिकारियों के सामने रोज़ रहती हैं असामान्य परिस्थितियां

बडगाम की घटना को सही संदर्भ में देखा जाना चाहिए। किसी बंधक को मानव ढाल की तरह इस्तेमाल करना न तो सेना की सामान्य कार्रवाई का हिस्सा है और न ही इसे कभी बढ़ावा दिए जाने या दोहराए जाने की संभावना है। किंतु बैठे-बैठे रणनीति बनाने वालों और मानवाधिकारों को बढ़ावा..

कश्मीर में एक नया जिहाद...

  आज कश्मीर घाटी कट्टर इस्लाम के कारण युध्य क्षेत्र बनता जा रहा है । कुछ महीने पहले पेरिस मे हुआ आतंकी हमला इसी सोच का नतीजा था । और कट्टरता की यही सोच सभी जिहादी आतंकी हमलो के पीछे पाई जाती है। जब तक इस विधा या सोच को अपनाते रहेंगे तब तक हम शांति..

जिसकी लाठी उसकी भैंस: चीनी (और पाकिस्तानी) शासनकला का राग

क्लॉजेवित्स की ‘ऑन वॉर’ में ‘डिफेंस’ नाम के उबाऊ शीर्षक वाली छठी पुस्तक के पहले अध्याय में उनके सामरिक ज्ञान की एक और झलक दी गई हैः ‘रोजमर्रा की जिंदगी में और खास तौर पर मुकदमेबाजी में (जो जंग से काफी मिलते-जुलते होते हैं) ..

क्या सिर्फ मारने वाले का ही मानवाधिकार है?

अप्रैल महीने की 24 तारीख को सुकमा जिले के चिंतागुफा थाना क्षेत्र के अंतर्गत बुरकापाल में नक्सलियों ने केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के दल पर हमला कर दिया था। इस हमले में सीआरपीएफ के 25 जवान शहीद हो गए थे। घटना से पूरे देश नक्सलियों के खिलाफ आवाज उठ..

देवी को भूलकर भी न चढ़ाए ये चीज़

घर में स्थित मंदिर में या किसी माँ देवी की मूर्ति को कभी भूलकर भी चंदन नहीं चढ़ाये। चंदन या तो भगवान शिव को चढ़ाया जाता है ..

मंदिर में जरूर चढ़ाये नरियल

हम मंदिर तो जाते है लेकिन वहां जाकर या तो हाथ जोड़ लिये जाते है या फिर पांच दस रूपये दान पेटी में डालकर चले आते है..

मोरारी बापू का आध्यात्म समाज एवं दर्शन

श्रीराम कथा का मूल स्रोत वाल्मीकि कृत, रामायण है। यद्यपि अपने यहां अनेक राम कथाएं उपलब्ध हैं जिनमें आध्यात्म रामायण एवं आनन्द रामायण भी हैं। वाल्मीकि श्री राम के समकालीन हैं। कालांतर में जिन-जिन ने रामकथा को गाया है उन उन ने अपने समय को समाहित किया है। संत महाकवि तुलसीदास गोस्वामी ........

मानस ताल के चतुर रखवारे हैं पूज्य मोरारी बापू

कथावाचकों के लिए रखी गई इस कसौटी पर खरे उतरते हैं, पूज्य मोरारी बापू। अपने जीवन का प्रत्येक क्षण राम कथा को समर्पित करने वाले इस महात्मा का दर्शन मात्र ........

सोने से पहले करेंगे ये काम तो मिलेगी कर्ज से मुक्ति

वास्तुशास्त्र का अर्थ होता है चारों दिशाओं से मिलने वाली ऊर्जा तरंगों का संतुलन। यदि ये तरंगें संतुलित रूप से आपको प्राप्त हो रही हैं, तो घर में सुख..

....जानें शुभ और अशुभ संकेतों को

ज्योतिष में शुभ और अशुभ वेला का खासा महत्व है। ऐसे में अशुभ संकेतों को पहचाकर उनका परिहार यानी उपचार करके ही आगे बढना ठीक रहता ..

हीरे में पाए जाते हैं दोष भी

हीरे का विशेषताओं के साथ-साथ इसमें कई दोष भी पाए जाते है। तो हम आपको बता रहे है हीरे के कुछ दोष जिन्हें आपको जान लेना बहुत जरूरी..

इन चार कार्यों को करने से जल्दी पा सकते हैं जीवन से मुक्ति

गरुड़ पुराण के बारे में लोगों में यह भ्रांति है कि इसमें सिर्फ मृत्यु के पश्चात होने वाली घटनाओं का ही उल्लेख है। यह पूर्णत: सत्य नहीं है। गरुड़ पुराण..