विशेष आलेख

शोध के क्षेत्र में भारत का बढ़ा कद सातवें से पांचवें स्थान पर पहुंचा

शोध के क्षेत्र में भारत ने एक लंबी छलांग लगाई है। अब वह शोध के क्षेत्र में दुनिया के शीर्ष के 10 देशों में पांचवे स्थान पर पहुंच गया है। इससे पहले ..

नक्सलवाद की अंतिम सांसें

राष्ट्रीय जांच एजेंसी की आर्थिक नाकाबंदी व सुरक्षा बलों की सख्ती से कश्मीर के बाद अब नक्सलवाद को लेकर आंतरिक सुरक्षा को लेकर अच्छी खबर सुनने को..

जल संसाधन के प्रबंधन पर गंभीरता की जरूरत

 शशांक द्विवेदी भारत में जल ही जीवन है मुहावरा काफी प्रचलित है। लेकिन इसका वास्तविक अर्थ देश की अधिकांश आबादी को नहीं पता। लोग पानी के महत्त्व को न ठीक से समझते हैं न ही ठीक से समझना चाहते हैं। पानी के बिना जिंदगी क्या हो जाती है, इसे पिछले कुछ महीन..

तीसरे विश्वयुद्ध की ओर दुनियाप्रमोद भार्गव

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की घोषणा के मुताबिक अमेरिका ने अपने मित्र देश ब्रिटेन और फ्रांस के साथ मिलकर सीरिया पर मिसाइल हमला बोल दिया। सीरिया में मोजूद रासायनिक हथियारों के भंडारों को नष्ट करने के मकसद से 105 मिसाइलें दागी गईं। अमेरिका, ब्रिटेन और ..

भारत और नेपाल के बीच सार्थक पहल

वर्तमान में चीन जिस प्रकार से नेपाल में अपने पांव पसार रहा है, उसी प्रकार से भारत ने भी नेपाल के साथ हाथों में हाथ लेकर दोस्ती को प्रगाढ़ बनाने का काम किया है। अभी हाल ही में नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी. ओली की भारत यात्रा के समय ऐसा ही कुछ दृश्य दिखाई दिय..

देश में रोजगार पैदा करे युवा शक्ति

देश में जिस प्रकार से जनसंख्या बढ़ रही है, उसी अनुपात में बेरोजगारी भी बढ़ती जा रही है। यह बात भी सही है कि देश में बढ़ती जनसंख्या का विस्फोट हमें बेरोजगारी की तरफ भी ले जा रहा है। यह बेरोजगारी केवल इन कारणों से ज्यादा बढ़ रही है, क्योंकि सभी लोग सरकारी नौकरी..

फेसबुक की विश्वसनीयता पर संदेह

सोशल मीडिया के रुप में प्रभावी उपस्थिति दर्ज कराने वाली फेसबुक पर अब अविश्वसनीयता के बादल मंडराने लगे हैं। फेसबुक विवरण लीक करने को लेकर भारत में जिस तरह से राजनीतिक दलों ने सोशल मीडिया को लेकर हंगामा मचाया है, उससे फेसबुक की जमीनी सच्चाई से साक्षात्कार भ..

मजबूर होकर की मायावती ने साइकिल की सवारी

उत्तरप्रदेश की राजनीति में इन दिनों इस बात की आम चर्चा है कि आखिरकार वो क्या मजबूरी है कि बसपा प्रमुख मायावती सपा के साथ दोस्ती की पीगें बढ़ा रही हैं। लोकसभा उपचुनाव के ऐन मौके पर सपा-बसपा का साथ आना किसी हैरानी से कम नहीं था। सपा-बसपा के इस फैसले ने राजनी..

अवसरवादी राजनीति का एक और प्रयास

देश में एक बार फिर से तीसरे राजनीतिक मोर्चे की कवायद तेज होती दिखाई देने लगी है। पहले देश में कांग्रेस को हराने के लिए तीसरा मोर्चा बनता रहा है, जिसकी परिणति कोई खास परिणामकारी नहीं रही। वास्तव में तीसरा मोर्चा केवल स्वार्थी राजनीति का एक ऐसा खेल है, जो अ..

भीष्म साहनी के बालमन की वह गौरैया

गौरैया हमारी प्राकृतिक सहचरी है। कभी वह नीम के पेड़ के नीचे फुंदकती और बिखेरे गए चावल या अनाज के दाने को चुगती। कभी प्यारी गौरैया घर की दीवार पर लगे आइने पर अपने प्रतिबिम्ब पर चोंच मारती दिख जाती है। ..

केन्द्र में कैसे सरकार बना पाएगी कांग्रेस

गत दिनों मुम्बई में कांग्रेस पार्टी की सबसे बड़ी नेता सोनिया गांधी ने पत्रकारों से बात करते हुये कहा था कि 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी एक बार फिर से केन्द्र में सरकार बनाकर वापसी करेगी। मगर सोनिया गांधी ने यह नहीं बताया कि कांग्रेस किस रणनीति ..

दरकते रिश्तों से खण्डित होता समाज

रिश्तों की मर्यादा टूटती जा रही हैं। ऐसी घटनाएं देशभर में बढ़ रही हैं। क्या हो गया है लोगों को-सोच ही बदल चुकी है। रिश्ते और उनकी मर्यादाएं भारतीय संस्कृति..

गंभीर बीमार को इच्छा मृत्यु का हक

सर्वोच्च न्यायालय ने इच्छा मृत्यु की मांग को स्वीकार करते हुए व्यक्ति को सम्मान से मरने का अधिकार दिया है। हालांकि इसमें एक बात और भी निहित है कि यह केवल उस स्थिति में ही लागू होगी, जब व्यक्ति की गंभीर बीमारी के चलते जीने की इच्छा समाप्त हो जाए या व्यक्ति..

राजनीतिक क्षितिज से ओझल वामपंथ

जब शक्ति को वैधानिकता मिलती है तो यह सत्ता में बदल जाती है। यही एक बड़ी वजह रही है कि राजनीतिक दल शक्ति प्रदर्शन के मामले में न पीछे हटते हैं और ..

जब बाल सैनिकों ने ध्वस्त किया लाल किला

इतिहास बताता है कि शिवाजी ने बाल्यकाल में ही अपने बाल मित्रों का संगठन तैयार किया और इन्हीं को सैनिकों के रूप में तैयार कर सुल्तानों, मुगलों के कब्जे के किले जीतना प्रारंभ किया। शिवाजी के बाल सैनिक जय भवानी का उद्घोष करते हुए आक्रमण करते थे। सबका यही संकल..

'लाल सलाम' को आखिरी सलाम

कार्ल माक्र्स व लेनिन के बाद वामपंथ के सबसे बड़े नायक माओ से-तुंग मानते थे कि 'सत्ता बंदूक की नली से निकलती है।' उनके इसी ध्येय वाक्य को सत्य साबित करने..

जॉर्डन में हिंदीपीठ की स्थापना के मायने

समझौते तभी होते हैं जब दिल मिलें। दिमाग मिलें। उभय पक्ष के हित संरक्षण की गुंजाइश हो। भारत और जॉर्डन के बीच हुए समझौते को इसी आलोक में देखना ठीक होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस बात को बेहतर जानते हैं कि सम्मान..

समरसता का पर्व होली

भारत त्यौहारों का देश है, यहां हर दिन कोई न कोई त्यौहार होता है। राष्ट्रीय एकता का दृश्य उपस्थित करने वाले ये त्यौहार अपनी संस्कृति का हिस्सा हैं। इन त्यौहारों में कोई विकृति भी नहीं है। आज समाज में जो दिखाई दे रहा है, उससे ऐसा ही लगता है कि हम अपनी संस..

विज्ञान में आगे होते हम

विज्ञान हमारे दैनिक जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। आज ऐसा कोई कार्य नहीं, जिसमें वैज्ञानिक गुणवत्‍ता की आवश्‍यकता महसूस न की गई हो। इसीलिए कहा गया है कि मानव जीवन विज्ञान के बिना आधा-अधूरा है। वैसे विज्ञान स्वयं में शक्ति नहीं है, अपितु यह मानव को विशिष्ट शक्ति प्रदान करता है। वर्तमान ..

अमेरिका ने पाक पर फिर तरेरी आंखें

भारत पाकिस्तान सीमा पर पाकिस्तान की नापाक हरकतें वर्तमान में भी जारी हैं। वह आज भी भारत में घुसपैठ करने के लिए प्रयास कर रहा है। इसका मतलब साफ है कि अमेरिका के प्रतिबंधों का पाकिस्तान पर कोई भी प्रभाव नहीं हो रहा है। हालांकि अभी हाल ही में अमेरिका की ओर स..

घोटाले पर नीरव मोदी की सीनाजोरी

एक तो चोरी, ऊपर से सीना जोरी। यह कहावत बैंक घोटाले के आरोपी नीरव मोदी और विक्रम कोठारी पर पूरी तरह से फिट बैठ रही है। नीरव मोदी ने तो अपने ऊपर हुई कार्यवाही के बाद बैंक को चेतावनी देते हुए कहा है कि बैंक ने मेरे मामले का खुलासा करके मेरा व्यवसाय चौपट कर..

उप्र की ओर निवेशकों के कदम

उत्तरप्रदेश में जब से सरकार बदली है, और राज्य के मुख्यमंत्री के रुप में योगी आदित्यनाथ ने सरकार की कमान संभाली है, तब से ही वातावरण में बहुत परिवर्तन दिखाई देने लगा है। भविष्य में और सुखद स्थिति में यह परिणाम दिखाई देंगे, ऐसी आशा का संचार प्रदेश में हुआ ह..

पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब जरूरी

भारत से चार जंगों में मुंह की खा चुका पाकिस्तान अतीत के अनुभवों के बाद भी उसी राह पर चलता हुआ दिखाई दे रहा है, जो केवल विनाश का रास्ता ही तैयार करता है। सीधे शब्दों में कहा जाए तो पाकिस्तान अपनी दुर्गति के पथ पर स्वयं जाने के लिए तैयार हो रहा है। हम यह जा..

कांग्रेस के वरिष्ठों में भविष्य की चिंता

देश में सबसे पुराने राजनीतिक दल के रुप में पहचाने जाने वाले कांग्रेस में अब वरिष्ठों के दिन लदने के संकेत मिलने लगे हैं। यह बात सही है कि जब से राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष बने हैं, तब से ही सभी कांग्रेस के नेता अब राहुल गांधी के इर्द गिर्द ही दिखाई दे..

नेहरू ने संघ से मांगी थी मदद

जिनको केवल राजनीति ही करना है, वह केवल राजनीति ही करते हैं। कई बार ऐसा भी होता है कि जिस बात को आधार बनाकर राजनीति की जा रही है, वह वास्तव में कुछ और ही होता है। बार-बार अर्थ निकालने के प्रयास में बयान को पूरी तरह से बदल दिया जाता है, और वह अनर्थ के रुप म..

पाक में दिखा अमेरिका का प्रभावहरिहर शर्मा

पाकिस्तान की वर्तमान हालत को देखकर यह दिखाई देने लगा है कि उस पर अमेरिका की कठोर बातों का प्रभाव होने लगा है, लेकिन पाकिस्तान के बारे में यह भी सच है कि वह जो दिखाता है, वैसा होता नहीं है। पाकिस्तान ने आतंकवादी हाफिज सईद के बारे में कई प्रकार की कार्यवाही..

मजहबी कानून अयोध्या की राह में रोड़ा

अखिल भारतीय मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड में जिस प्रकार की राजनीति की जा रही, उससे यही प्रमाणित होता दिख रहा है कि बोर्ड अयोध्या विवाद का हल नहीं चाहता, केवल समस्या को और खतरनाक बनाने की कट्टरता को ही अंजाम दे रहा है। अखिल भारतीय मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड में सद..

आधार नहीं तो भी मिलेंगी सुविधाएं

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण यानी यूआईडीएआई ने एक बार फिर ये स्पष्ट कर दिया है कि भारतीय नागरिकों के पास आधार नहीं भी होगा तो भी आधार कार्ड पर मिलने वाली सुविधाएं रोकी नहीं जाएंगी। इसका आशय साफ है कि कोई भी अधिकारी के पास आधार के बिना किसी की कोई सुविधा..

कांग्रेस की नकारात्मक मानसिकता

वर्तमान में राजनीति का जो स्वरुप दिखाई दे रहा है, उसमें अपने दल के उत्थान के बारे में ही सोचा जाता है। लेकिन आजकल राजनीति में कुछ अलग ही प्रकार का खेल होता दिखाई दे रहा है। इस प्रकार की राजनीति देश को किस राह पर ले जाएगी, यह सोचने का विषय है। अभी हाल ही..

स्वामी स्वरूपानंद जी के सच्चे बोल

जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा है कि महात्मा गांधी को राष्ट्रपिता के बजाय राष्ट्र पुत्र कहा जाए तो ज्यादा बेहतर होगा। शंकराचार्य जी का कथन एक दम सही ही है, क्योंकि पुरातन काल से दिव्य भूमि भारत को यहां की संतति ने मां का दर्जा दिया ..

मोदी ने कांग्रेस को आइना दिखाया

लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण को लेकर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कांगे्रस को आइना दिखा दिया। उस आइने में कांगे्रस की एक एक सच्चाई सामने आती गई। प्रधानमंत्री ने कांग्रेस पर भारत माता के टुकड़े करने का आरोप भी लगाया..

मालदीव में आपातकाल का संकट

  एशिया महाद्वीप में आने वाले मालदीव में राष्ट्रपति और सर्वोच्च न्यायालय के बीच पैदा हुए संकट के बाद अंतत: राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने आपातकाल की घोषणा कर दी। इसके साथ ही मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति मौमून अब्दुल गयूम, मोहम्मद नसीद और मुख्य न्यायाधी..

कांग्रेस राजनीति के दोराहे पर

पिछले लोकसभा चुनाव के परिणामों के बाद निश्चित ही अंतिम पायदान पर खड़ी देश की सबसे पुरानी कांगे्रस पार्टी दूध की जली हुई सी स्थिति में दिखाई दे रही है। इसलिए वह अब फूंक फूंककर कदम बढ़ाने को उतावली होती दिख रही है। अभी हाल ही में कांगे्रस के प्रवक्ता रणदीप ..

अब पाकिस्तान में लगे आजादी के नारे

  भारत के कश्मीर में पाकिस्तान संरक्षित संस्थाओं द्वारा वहां के नागरिकों से आजादी के नारे लगवाए जाते थे। पाकिस्तान की यह चाल निश्चित रुप से कश्मीर में अलगाव फैलाने का षड्यंत्र ही था। वर्तमान में पूरे भारत में पाकिस्तान की इस चाल का खुलासा भी हो चुका..

भारत की आक्रामक कूटनीति

कट्टर विरोधी भी यदि आपकी प्रशंसा करे तो वह आपके लिए प्रमुख सर्टिफिकेट होता है। यदि कूटनीति के संबंध में चीन का अध्ययन करे तो इसके लिए आपको काफी माथापच्ची करना होगी। क्योंकि माओवादी चीन जैसा दिखाई देता है, वैसा है नहीं। उसकी मुस्कराहट में भी गुस्सा रहता है..

भारत में अभी भी पकौड़े और चाय में बहुत स्कोप है साहब

- डॉ. नीलम महेंद्र साधू ऐसा चाहिए जैसा सूप सुभाय। सार सार को गहि रहे थोथा देय उड़ाय।। कबीर दास जी भले ही यह कह गए हों, लेकिन आज सोशल मीडिया का जमाना है जहाँ किसी भी बात पर  ट्रेन्डिंग और ट्रोलिंग का चलन है। कहने का आशय तो आप समझ ही चुके होंगे। जी..

उपचुनाव के नतीजे- मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के प्रति फूटा आक्रोश

- ईश्वर बैरागी  राजस्थान में अजमेर, अलवर लोकसभा और मांडलगढ़ विधानसभा सीट के लिए उपचुनाव में कांग्रेस ने भारी मतों से जीत दर्ज की। नतीजे भाजपा की उम्मीद के उलट आए। भाजपा को जनता ने आइना दिखाया। यह नतीजे ऐसे समय आए हैं, जब इसी वर्ष के अंत में विधानसभा ..

सशक्त होते भारत के कदम

अपनी मजबूती की बात स्वयं की जाए तो स्वाभाविक रुप से उस पर संदेह हो सकता है, लेकिन जब यही बात कोई दूसरा करता है तो उस पर विश्वास करना ही पड़ता है। वर्तमान में भारत एक नई शक्ति के साथ उभरकर सामने आ रहा है, यह बात केन्द्र सरकार यानी भारत की ओर से नहीं, बल्कि ..

विश्लेषण : बजट में गांव और गरीब पर जोर

-सियाराम पांडेय केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने वर्ष 2018 के केंद्रीय बजट में विरोधियों को झटका तो दिया ही है, सबको खुश करने की कोशिश भी की है। सच तो यह है कि इस बजट में गांव, गरीब, किसान, उद्योग से जुड़े लोगों और आदिवासियों के विकास का तो ध्यान रखा..

कासगंज में अक्षम्य अपराध

उत्तरप्रदेश के कासगंज में राष्ट्रीय स्वाभिमान के प्रतीक राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा को लेकर जो कुछ किया जा रहा है, वह अत्यंत ही चिंतनीय विषय कहा जा सकता है। चिंतनीय इसलिए भी है कि दंगे का माध्यम कुछ और होता तो समझ में आता, लेकिन यहां पर तिरंगा विवाद का कारण बना..

कासगंज : खंड-खंड पाखंड

कासगंज की घटना ने हमारी नाकाम और सड़ी गली तथा बदबूदार शासन व्यवस्था और उस कुरुप चेहरे को बेनकाब कर दिया है, जिसे हम कथित गंगा जमुनी सभ्यता और साम्प्रदायिक सौहार्द के नाम से जानते हैं। देश की आन, बान, शान का प्रतीक तिरंगा फहराने पर सीने पर गोली, जो अंग्रे..

एक साथ चुनाव और राष्ट्रीय हित

वर्तमान में भारत में जिस प्रकार से राष्ट्रीय भाव को प्रधानता देने का क्रम प्रारंभ हुआ है, उससे केन्द्र सरकार द्वारा विकास की संभावनाओं को जगाने का उद्देश्य ही दिखाई दे रहा है। वास्तव में वर्तमान में ऐसे कई कारण हैं, जो राष्ट्रीय विकास में बाधक बन रहे हैं।..

कातिल मानसिकता ने ली चंदन की जान

उत्तरप्रदेश का कासगंज न तो पाकिस्तान में है और न ही आतंक प्रभावित्मी कश्मीर में। इसके बावजूद यहां के एक युवा को गणतंत्र दिवस पर निकाली गयी ..

संकल्प से होगा भ्रष्टाचार का अंत

संकल्प लेकर बुराई का नाश करने के लिए प्रयास किया जाए तो वह सार्थक परिणाम देने वाला ही सिद्ध होगा। इस प्रयास में समय भले ही लग जाए, लेकिन सफलता निश्चित ही मिलेगी। देश में कई काम ऐसे हैं जिनके कारण आम जन के समक्ष समस्याओं का विकराल रुप सामने आया, हालांकि उस..

दिग्गी की यह पद यात्रा नहीं, प्रायश्चित यात्रा है

  कभी पानी पी-पी कर हिन्दू धर्म की बखिया उधेड़ने वाला कांग्रेस का प्रमुख नेता आज नर्मदा यात्रा पर है, दिग्गी ने तमाम अवसरों पर हिन्दू धर्म पर ऐसे-ऐसे प्रत्यक्ष अरोप लगाये थे जिनकी उनसे आशा नहीं की जा सकती थी। एक जिम्मेदार व्यक्ति जो मध्यप्रदेश का दो ..

अब विभूतियों को मिला पुरस्कार

कोई भी पुरस्कार जब सही हाथों में जाता है, तब उसका सम्मान और बढ़ जाता है। पहले के दौर में पुरस्कार प्राप्त करने के लिए किस प्रकार से जुगाड़ की जाती थी, यह सबको पता है। अपने संबंधों के आधार पर पुरस्कार प्राप्त करना वास्तव में उस पुरस्कार का अपमान ही कहा जाएगा..

वैधानिकता व नैतिकता के बीच उलझे आप के अयोग्य 20 विधायक ?

अंतत: महामहिम राष्ट्रपति ने आप के 20 विधायकों को लाभ के पद पर होने के कारण उत्पन्न हुई कानूनी अयोग्यता की चुनाव आयोग की सिफारिश को स्वीकार कर लिया। अत: उच्च न्यायालय में सोमवार को सुनवाई होने वाली आप के विधायकों की याचिका भी शून्य हो गई। इसीलिये उनके द्वा..

भारत में असुरक्षित बेटियां, एक सुलगता सवाल?

हमारे समाज की नैतिकता गिर गई है। सामाजिक मापदंडों का पतन हो चला है। तकनीकी और शैक्षिक रुप से जितने हम मजबूत और सभ्य हो रहे हैं, सामाजिक नैतिकता उतनी ही नीचे गिर रही है। बदलते दौर में सामाजिक सम्बन्ध की कोई परिभाषा नहीं बची है जो लांछित न हुईं हो। 21 वीं सदी में इसरो.....

विराट गुरुकुल सम्मेलन : भारत के पुनरुत्थान की सुगबुगाहट का आख्यान

आगामी अप्रैल महीने में महाकाल की नगरी उज्जैन में एक ऐसा अद्भुत कार्यक्रम सम्पन्न होने जा रहा है जिससे देश-दुनिया के लोग पृथ्वी के सर्वाधिक पुरातन-सनातन राष्ट्र भारतवर्ष को परम वैभव का अभीष्ट सिद्ध करने के निमित्त भारतीय पैरों पर पुन: खड़ा हो उठने का बौद्धिक उद्यम करते देख सकेंगे। भारत .....

मोेदी की काशी को अस्थिर करने का एक और षड़यंत्र

सदियों की गुलामी का दंश झेलने के बाद भी इस देश ने कुछ सीखा नहीं है। पिछले दिनों जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला ने एक बड़ी बात कही थी कि मुल्क के दुश्मन मुल्क के बाहर ही नहीं हैं। मुल्क के अंदर भी हैं। देश की सांस्कृतिक राजधानी..

महाराज पांंडु से प्रेरणा ले न्यायपालिका

सर्वोच्च न्यायालय के चार न्यायाधीशों सर्वश्री चेलामेश्वर, रंजन गोगोई, मदन बी. लोकूर और न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ ने प्रेस कान्फ्रेंस कर न्यायालय के भीतर जिन विसंगतियों पर प्रकाश डाला तो उससे स्वयंस्फूर्त स्मृति हो आई है भरतवंशी..

तीन तलाक पर कांग्रेसी दर्शन - अटकाओ, भटकाओ और लटकाओ

तीन तलाक के मुद्दे पर कांग्रेस पार्टी अटकाओ, भटकाओ और लटकाओ के त्रिसूत्रीय दर्शनशास्त्र का पालन करती दिखाई दे रही है। देश के संसदीय इतिहास में शायद पहली बार देखने को मिल रहा है कि किसी दल ने एक विधेयक..

भीमा कोरेगांव हमारी राष्ट्रीय एकता का स्तंभ बने

जो समाज अपने अतीत की गलतियों से नहीं सीखता वह इतिहास दोहराने को अभिशप्त होता है, इसकी ज्वलंत उदाहरण है महाराष्ट्र के भीमा कोरेगांव की घटना जहां ..

हाफिज सईद की रैली के निहितार्थ

द्विपक्षीय संबंधों के निर्वाह की दृष्टि से यह ठीक है कि फिलस्तीन ने पाकिस्तान से अपने राजदूत वालीद अबु अली को वापस बुला लिया। लेकिन एक आतंकवादी की सभा में किसी देश के राजनयिक का शामिल होने पर भारत का ऐतराज स्वाभाविक है। वह भी तब जब अमेरिका से अपनी दोस्ती ..

सिर्फ सरकारें बदलने से विकास संभव नहीं, नेताओं को बदलनी पड़ेगी मानसिकता

सत्ता में कर्मवीरों की लगी कतारे जन समस्याओं को अनदेखा कर क्या बताना चाह रही है, स्पष्ट नहीं हो पा रही है। नगर व क्षेत्र के मतदाताओं ने नाराज होकर सत्ता परिवर्तन किया, परन्तु विगत 15 वर्षों में क्या पाया, यह सर्वविदित है, बड़ी मात्रा में सत्ता के दलालों..

लालू प्रसाद यादव दोषी करार

बिहार के बहुचर्चित चारा घोटाले में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री लालूप्रसाद यादव को सीबीआई न्यायालय द्वारा दोषी करार दिया जा चुका है। इससे यह प्रमाणित हो चुका है कि लालू प्रसाद यादव देश के बहुत बड़े अपराधी हैं, लेकिन सवाल यह आता है कि उनको अपराध बोध कतई नहीं ..

क्या यह प्रधानमंत्री पद की गरिमा का अपमान नहीं है

वर्तमान में चल रहे संसद के शीतकालीन सत्र में भारतीय लोकतंत्र की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस चुनावों के दौरान प्रधानमंत्री मोदी द्वारा दिए बयान पर माफी की मांग पर सदन की कार्यवाही में लगातार बाधा डालने का काम कर रही है। वैसे ऐसा पहली बार नहीं है कि कांग्..

दम तोड़ती इंसानियत का रूदन हम कब सुन पायेंगे

“अपना दर्द तो एक पशु भी महसूस कर लेता है लेकिन जब आँख किसी और के दर्द में भी नम होती हो, तो यह मानवता की पहचान बन जाती है।“ मैक्स अस्पताल का लाइसेंस रद्द करने का दिल्ली सरकार का फैसला और फोर्टिस अस्पताल के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करने का हरिय..

क्या कभी नारी को गुस्सा आया है ?

आज से पांच साल पहले 16 दिसम्बर 2012 को जब राजधानी दिल्ली की सड़कों पर दिल दहला देने वाला निर्भया काण्ड हुआ था, तो पूरा देश बहुत गुस्से में था । अभी हाल ही में हरियाणा के हिसार में एक पाँच साल की बच्ची के साथ निर्भया कांड जैसी ही बरबरता की गई, देश एक बार फि..

कांग्रेस 'शहजाद' व 'शहजादे' के दोराहे पर

हर व्यक्ति व संगठन के जीवन में कई बार दोराहे आते हैं जो दुविधा पैदा करते हैं। आज कांग्रेस के संगठनात्मक चुनाव लगभग अंतिम पड़ाव पर है, ऐसे समय में पार्टी के समक्ष एक मार्ग है वंशवाद का जो जाना पहचाना व सुविधाजनक मार्ग है और जिस पर वह आज तक चलती आई है परंतु इस मार्ग पर चलते हुए वह पतन..

क्रिकेट का विराट अवतारसुरेश हिंदुस्तानी

क्रिकेट की दुनिया में भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली का जादू चल रहा है। विराट जिस प्रकार से खेल रहे हैं, उससे तो यही लगता है कि भारतीय भूमि से क्रिकेट जगत का एक और महानायक उभर रहा है। हम जानते हैं कि इससे पूर्व क्रिकेट जगत में मास्टर..

गुजरात चुनाव पर असर डाल सकती है ओबामा की नसीहत

भारत में अमेरिकी मेहमानों के आगमन बेहद मायने रखते हैं। हाल ही में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप भारत आई थीं। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय वैश्विक उद्यमिता सम्मेलन में अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया था। तेलंगाना में उनकी आवभगत प्र..

अब बांस की मदद से होगी किसानों की आय दोगुनी

  देश के किसानों के लिए एक अच्छी खबर है। भारतीय वन कानून में संशोधन के बाद अब बांस एक पेड़ नहीं रह गया। ऐसे में किसान अब गैर कृषि भूमि में भी बांस उगा सकेंगे और बाजार में बेच सकेंगे। यह फैसला 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के लिए सरकार के प्रयासो..

भारत की आर्थिक स्थिति सुधरी

देश में भले ही सरकार की आर्थिक नीतियों की आलोचना हो रही हो, लेकिन देश की आर्थिक स्थिति पिछली सरकारों के मुकाबले दु्रत गति से वृद्धि करती हुई दिखाई दे रही है। इसको प्रमाणित करने के लिए अमेरिका से एक बहुत ही अच्छी खबर आई है, जिसमें आर्थिक मोर्चे पर आलोचना क..

दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण का जिम्मेदार कौन ?

  दिल्ली की आबोहवा दमघोंटू हो चुकी है। सांस लेना भी मुश्किल हो चला है। हमारे लिए यह कितनी बड़ी बिडंबना है। जहरीली होती दिल्ली हमारे लिए बड़ा खतरा बन गई है। पर्यावरण की चिंता किए बगैर विकास का सिद्धांत मुश्किल में डाल रहा है। यह पूरी मानव सभ्यता के ल..

धर्म परिवर्तन की धमकी में कितना दम

बसपामो मायावती अपनी बेतुकी कार्यशैली के कारण जनमानस में विश्वसनीयता खो चुकी हैं। इसलिए जब वे क्रान्तिकारी मुद्रा अपनाती हैं तो लोगों को हास्यास्पद नजर आने लगती हैं। आजमगढ़ में पार्टी की चार मण्डलों की रैली में उन्होंने नए तेवर दिखाए। धमकी दी कि दलितों, आद..

कांग्रेस फिर गठबंधन की राह पर

लम्बे समय से हासिए की ओर जा रही कांग्रेस पार्टी गुजरात चुनाव के लिए गठबंधन की तलाश करती हुई दिखाई दे रही है। ऐसे में सवाल उठता है कि वर्तमान में कांग्रेस क्या इतनी कमजोर हो चुकी है कि उसे तिनके का सहारा ढूंढना पड़ रहा है। राज्य स्तरीय छोटे राजनीतिक दलों की..

राजस्थान का मरूस्थली भूभाग किसी जमाने में था देश का बड़ा व्यापारिक केन्द्र

जैसलमेर आने वाले पर्यटक प्रायः पूछते हैं, इस मरूस्थली पिछड़े भू-भाग में इतने सुन्दर एवं भव्य, किला, मंदिर, महल एवं हवेलियां कैसे बन गए। जब इन्हें बताया जाता है कि यह रेतीला क्षेत्र किसी समय में हिन्दुस्तान का माना हुआ व्यापारिक ..

दीपावली पर अंतर्मन को बनाएं प्रकाशवान

प्रकाश पर्व दीपावली समृद्धि, संपन्नता तथा खुशहाली का प्रतीक है। दीपावली के पावन अवसर पर अंतर्मन को निर्मल एवं निर्विकार बनाने का संकल्प भी लिया जाना चाहिए।..

राजनाथ ने कहा - भारत की ताकत को समझ गया है चीन, हमारे मुद्दों का हुआ समाधान

लखनऊ। केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को कहा कि भारत की सीमाएं पूरी तरह सुरक्षित हैं। चीन, भारत की ताकत को समझ गया है। चीन के साथ हमारे मुद्दों का समाधान हो गया है। उन्होंने डोकलाम विवाद का जिक्र करते हुए कहा कि लोग चिन्तित थे कि क्या होगा, क्..

दिग्गी की नर्मदा परिक्रमा बनाम राजनीतिक परिक्रमा

गुना।  हालांकि समय बहुत हो चुका है, पर वह भी एक दौर था जब पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की न सिर्फ कांग्रेस बल्कि समूचे प्रदेश की राजनीति में तूती बोला करती थी। अपने राजनीतिक जीवन के उस स्वर्णिम काल में श्री सिंह ने प्रदेश पर 10 साल तक निष्कंटक राज..

स्वच्छता अभियान और हम

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा तीन वर्ष पूर्व गांधी जयंती के अवसर पर जिस जोरदार तरीके से स्वच्छता अभियान की शुरुआत की थी। आज उसके कितने सार्थक परिणाम दिख रहे हैं, यह मोदी के बयान से साफ झलक रहा है। मोदी ने कहा है कि एक हजार महात्मा गांधी और एक लाख मोदी..

अध्ययन से सुलझती हैं जीवन की मुश्किलें

हमारा शरीर अपने आप में एक ऐसी किताब है, जो है तो सबके पास, मगर इसे कम ही लोग पढ़ पाते हैं। जो पढ़ लेते हैं, वह जिंदगी में एक बदलाव ले आते हैं। शरीर के हर अंग से जीवन के नियम निकलते हैं। हड्डियां हमें अनुशासन सिखाते हुए बताती हैं कि हमें किस ओर कितना झुकना ह..

आज भी प्रासंगिक हैं दीनदयाल जी

एकात्म मानव दर्शन के प्रणेता पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने पूरी तरह से भविष्य के भारत का अध्ययन किया था। इसी को ध्यान में रखते हुए दीनदयाल जी ने अपना चिन्तन प्रस्तुत करते हुए देश को भविष्य की दिशा के प्रति आगाह भी किया है। पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने एकात्म मान..

रोहिंग्या मुसलमानों का पक्ष क्यों?

वर्तमान में रोहिंग्या मुसलमानों के पक्ष में जिस प्रकार से वातावरण बनाने का प्रयास किया जा रहा है, वह एक प्रकार से बिना सोचे समझे उठाया गया कदम माना जा सकता है। वास्तव में सबसे बड़ी चिन्ता इस बात की है कि रोहिंग्या मुसलमानों को कोई देश अपने साथ रखने को तैया..

भारत में बुलेट ट्रेन, मोदीजी कुछ विचारणीय बातेंडॉ. मयंक चतुर्वेदी

 जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे 14 सितंबर को भारत दौरे पर आ रहे हैं। निश्‍चित ही उनके आगमन पर हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उनके साथ द्विपक्षीय वार्ता भी होगी। इतना ही नहीं तो जो सूचना है उसके अनुसार मोदी और आबे गांधीनगर में वार..

स्टार्ट अप और जिम्मेदारी से ही मिटेगी बेरोजगारी

आचार्य बिनोवा भावे ने कहा था कि राष्ट्रीय योजना आरंभ करने की पहली शर्त यही है कि इससे देश के हर युवा को रोजगार मिले और अगर ऐसा नहीं हो पाता तो योजना की सफलता में संदेह है। देश में हर हाथ को काम देने के लिहाज से वर्ष 1951-52 में पंचवर्षीय योजना शुरू की गई ..

पहाड़ बनता प्लास्टिक अपशिष्ट ?

आर्थिक उदारीकरण और उपभोक्तावाद की संस्कृति ने महानगरों से निकले वाले अपशिष्ट को पहाड़ के ढे़र में बदल दिया है। मानव सभ्यता के लिए यह खतरे की घंटी है। अभी तक वारिश और भूस्खलन की वजह से पहाड़ों का खींसकना और यातायाता का प्रभावित होना आम बात मानी जाती थी। भू..

सियासत से इतर है संघ की सेवा के रंग

अमित श्रीवास्तव - राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की बैठकों के सियासी मायने निकालते हुए चटखारेदार चर्चा का दस्तूर वर्षों से चला आ रहा है। प्रख्यात कवि दुष्यंत कुमार की लिखी पंक्तियों ‘देखिए उस तरफ उजाला है, जिस तरफ रोशनी नहीं जाती’की तर्ज पर यह मीडिया ..

निजता के दायरे को भी तय करना जरूरी

-सियाराम पांडे  सर्वोच्च न्यायालय के नौ न्यायमूर्तियों की पीठ ने निजता के अधिकार को मौलिक अधिकार करार दिया है। उन्होंने माना है कि संविधान के अनुच्छेद 21 में निजता का अधिकार आता है। उक्त अनुच्छेद जीवन जीने का अधिकार और व्यक्तिगत स्वतंत्रता से संबद्ध..

अयोध्या में विवादित भूमि पर शिया-सुन्नी फिर आमने-सामने

शिया-सुन्नी मुसलमानों के बीच मतैक्य का अभाव अक्सर रहा है। व्यवहार के धरातल पर दोनों नदी के दो किनारे हैं जो कभी मिल नहीं सकते। शिया और सुन्नी की विचारधारा ही नहीं, रहन-सहन में भी अंतर है। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के मामले में अब जब देश ..

क्या संस्कृत पढ़ने से अर्थार्जन नहीं हो सकता ?

  समाज में एक भ्रम फैलाया गया है कि संस्कृत पढ़ने से छात्र अर्थार्जन नहीं कर सकता। उसे केवल शिक्षक बनना पड़ता है या पुरोहित। मेरा इस प्रकार की धारणा रखनेवालों से प्रश्न है कि जो संस्कृतेतर छात्र B.A., B.Com, B.Sc. होते है उनके लिए कौनसी नौकरी बाट जोह ..

होम्योपैथी में है लर्निंग डिसेबिलिटी का इलाज

गणित लगाने, अंक जोड़ने, घटाना, गुणा करने, अंको को समझने, गणितीय सोच को समझने में एवं सीखने में परेशानी, गणितीय सूत्र को समझने एवं लिखी हुई चीजों को परिवर्तित करने में परेशानी। ..