सुषमा ने चीन से कहा, आपसी विश्वास बढ़ाना चाहिए

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 12-Dec-2017

नई दिल्ली। डोकलाम में चीनी सैनिकों के सर्दी में भी डटे होने के बीच विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने चीन के विदेश मंत्री वांग यी से कहा है कि हमें आपसी विश्वास बढ़ाना चाहिए, बार-बार मिलना चाहिए।

सुषमा ने सोमवार को यहां चीन और रूस के विदेश मंत्रियों से अलग-अलग मुलाकात की। चीन के विदेश मंत्री के साथ द्विपक्षीय मुलाकात को विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने सकारात्मक और भविष्य की ओर देखने वाला बताया और कहा कि इससे दोनों देशों के रिश्तों को नई गति मिलेगी। यह बैठक ऐसे समय में हुई है, जब चीन के सैनिक पहली बार सर्दियों में डोकलाम इलाके में बने हुए है, जबकि इस इलाके में भारतीय सैनिकों से उनका आमना सामना खत्म होने का दावा किया गया था। चीन के विदेश मंत्री ने यहां आने से पहले रविवार को कहा था कि चीन अपने संप्रभुता के अधिकारों और हितों के साथ क्षेत्रीय अखंडता को कायम रखने के लिए दृढ़ है। भारत के सैनिकों ने चीन के डोंग लांग (डोकलाम) इलाके में दखल दिया था, तब राष्ट्रीय हित में हमने इसे धरातल पर संयम के साथ संभाला। हमने भारतीय पक्ष के साथ कूटनीतिक माध्यम से काम किया, जिससे उसने अपने उपकरण और कर्मियों को हटा लिया।

वांग यी ने कहा था कि हम भारत के साथ संबंधों को महत्व देते हैं, साथ ही क्षेत्रीय शांति और स्थिरता बनाए रखने की जिम्मेदारी समझते हैं। हमारा मानना है कि जब तक हम गहन सामरिक मामलों पर संवाद करते रहेंगे, गड़बड़ी को तुरंत दूर करेंगे, ड्रैगन और हाथी का डांस साथ हो सकता है। भारत और चीन के विदेश मंत्रियों के बीच 15 मिनट की बातचीत के बारे में यहां सूत्रों ने बताया कि आपसी हित के सभी मुद्दों पर चर्चा हुई, लेकिन गतिरोध के पुराने मुद्दों को हावी होने नहीं दिया गया, इस बात पर फोकस किया गया कि दोनों देश किस तरह मिलकर काम कर सकते हैं।