गडकरी श्रमिकों को बना रहे निपुण

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 23-Dec-2017

-2019 तक साढ़े तीन लाख युवाओं और श्रमिकों को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य
नई दिल्ली।  केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वारा 2019 तक साढ़े तीन लाख युवकों और श्रमिकों को प्रशिक्षित किया जाएगा। इसके अलावा भारतमाला और सागरमाला परियोजनाओं में प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष तरीके से लगभग एक करोड़ लोगों को रोजगार से मुहैया कराने का लक्ष्य रखा गया है। केन्द्रीय सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी का मत है कि सिद्धहस्त लोगों की संख्या बढ़ने से काम का समय घटेगा और गुणवत्ता में सुधार आएगा।

दिल्ली में शुक्रवार को कौशल विकाय मंत्रालय के सहयोग से सड़क निर्माण क्षेत्र में काम करने वाले श्रमिकों को प्रशिक्षण कराकर उन्हें प्रमाण-पत्र दिया गया। चार माह में  कर्नाटक, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, बिहार और ओडिशा के लगभग 2800 कामगारों को राजमिस्त्री तथा  छड़ों को मोड़ने, शटर तैयार करने के कार्यो में प्रशिक्षित किया गया है। गडकरी ने घोषणा की कि जून 2018 तक सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय, एनएचएआई और एनएचआईडीसीएल की 310 परियोजनाओं में एक लाख 12 हजार और कामगारों को चिनाई, छड़ों को मोड़ने, शटर तैयार करने, मचान, पेंटिंग और नलसाजी के कार्यों में प्रशिक्षित किया जाएगा। इसके लिए नौ कौशल प्रशिक्षण एजेंसियों को आॅर्डर दिए गए। गडकरी ने कहा कि वर्ष 2019 तक मंत्रालय, एनएचएआई और एनएचआईडीसीएल की अन्य परियोजनाओं में 22 राज्यों के लगभग ढाई लाख कामगारों को प्रशिक्षित किया जाएगा। वहीं भारतमाला के तहत लगभग साढ़े तीन लाख कामगारों को प्रशिक्षित करने की योजना है। उन्होंने कहा कि भारतमाला परियोजना के तहत 7 लाख करोड़ रुपए की लागत वाली राजमार्ग निर्माण परियोजनाएं क्रियान्वित की जाएंगी। इस मौके पर केन्द्रीय पेट्रोलियम व कौशल विकास मंत्री धर्मेंद्र प्रधान कहा कि सभी मंत्रालयों में सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय पहला ऐसा मंत्रालय है, जिसने इतने बड़े पैमान पर प्रशिक्षण का काम किया है। शुक्रवार को प्रशिक्षण लेने वाले 2,800 कामगारों को प्रमाण-पत्र दिया गया।