कभी ट्रेन रद्द तो कभी यात्री रद्द कर रहे यात्रा

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 31-Dec-2017

रेलमार्गों पर कोहरे का कहर, दस घण्टे तक देरी से चल रही हैं ट्रेनें

 

देर रात तक ट्रेनों का इंतजार करते रहे यात्री, कोहरे से शताब्दी सहित कई ट्रेनों के पहिए थमे

ग्वालियर ।   कोहरे का असर अब दूरदराज आने-जाने वाली ट्रेनों पर दिखने लगा है। जो ट्रेनें कुछ दिन पहले दो से तीन घण्टे की देरी से चल रही थीं वही ट्रेनें अब पांच से छह घण्टे की देरी से चल रही हैं। ट्रेनों के विलम्ब से चलने का खामियाजा यात्रियों को भुगतना पड़ रहा है। सबसे ज्यादा परेशानी बिना पेंट्रीकार वाली ट्रेनों में यात्रा करने वाले यात्रियों को हो रही है। हालत यह है कि कभी कोहरे के कारण रेलवे ट्रेनों को रद्द कर रहा है तो कभी यात्री अपनी यात्रा रद्द कर रहे हैं। शनिवार को हबीबगंज से आने वाली शताब्दी एक्सप्रेस रात्रि नौ बजे के बाद ग्वालियर पहुंची।

शनिवार को नई दिल्ली से आने वाली मालवा एक्सप्रेस 3 घंटे 2 मिनट, जम्मूतवी-दुर्ग एक्सप्रेस 1 घंटे 25 मिनट, अमृतसर दादर 2 घंटे 19 मिनट,  श्रीगंगानगर नांदेड़ 4 घंटे 43 मिनट,  चंडीगढ़ इंदौर एक्सप्रेस 2 घंटे 7 मिनट, शताब्दी एक्सप्रेस 1 घंटे 15 मिनट, पंजाब मेल 2 घंटे 43 मिनट, छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस 2 घंटे 42 मिनट, एपीसी एक्सप्रेस 1 घंटे 17 मिनट, ताज एक्सप्रेस 1 घंटे 46 मिनट, समता एक्सप्रेस 1 घंटे 39 मिनट, झेलम एक्सप्रेस 3 घंटे 33 मिनट, केरला एक्सप्रेस 2 घंटे 14 मिनट, उत्कल एक्सप्रेस 1 घंटे 54 मिनट, आगरा झांसी पैसेंजर 4 घंटे 54 मिनट, पातालकोट एक्सप्रेस 1 घंटे 59 मिनट, सचखंड एक्सप्रेस 4 घंटे 33 मिनट, उज्जैनी एक्सप्रेस 1 घंटे 28 मिनट, श्रीधाम एक्सप्रेस 1 घंटे 25 मिनट, अंडमान एक्सप्रेस 1 घंटे 23 मिनट, गोंडवाना एक्सप्रेस 2 घंटे 39 मिनट, महाकौशल एक्सप्रेस 3 घंटे 26 मिनट की देरी से ग्वालियर पहुंची। वहीं भोपाल की ओर से आने वाली जीटी एक्सप्रेस 2 घंटे 50 मिनट, तमिलनाडु एक्सप्रेस 1 घंटे 27 मिनट, गोंडवाना एक्सप्रेस 1 घंटे 54 मिनट, महाकौशल एक्सप्रेस 5 घंटे 15 मिनट, सचखंड एक्सप्रेस 1 घंटे 57 मिनट, उत्कल एकसप्रेस 2 घंटे 59 मिनट, मंगला एक्सप्रेस 5 घंटे 3 मिनट, केरला एक्सप्रेस 1 घंटे 40 मिनट, शताब्दी एक्सप्रेस 1 घंटे 11 मिनट, एसी एपी 2 घंटे 51 मिनट, छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस 1 घंटे 49 मिनट की देरी से ग्वालियर पहुंची।

ट्रेन न छूट जाए इसलिए ठंड में करते रहे इंतजार:- कोहरे में ट्रेनें पांच से सात घण्टे की देरी से चल रही हैं, लेकिन इनकी सही जानकारी एनटीईएस पर नहीं दी जा रही है। ट्रेन छूट न जाए इस डर से यात्रियों को कड़कड़ाते जाड़े में प्लेटफार्म पर घण्टों ट्रेनों का इंतजार करना पड़ रहा है। वहीं ट्रेनों की जानकारी लेने के लिए पूछताछ कार्यालय में यात्रियों का जमघट लगा रहा।

कोहरे ने बढ़ाई ठंड, थमी पारे की चाल

मौसम एक बार फिर बदल गया है। शनिवार को दिन भर हल्का कोहरा छाया रहने से सूरज के तेवर नरम बने रहे। इसके चलते जहां दिन के तापमान में कमी आई है वहीं ठंड का असर भी बढ़ गया है। मौसम विभाग ने रविवार को भी मध्यम कोहरा छाए रहने की संभावना जताई है। पिछले कुछ दिनों से मौसम शुष्क रहने से दिन का तापमान सामान्य से चार से पांच डिग्री सेल्सियस तक ऊपर पहुंच रहा था, लेकिन शुक्रवार-शनिवार रात को अचानक मौसम ने करबट बदली और कोहरे ने दस्तक दे दी। शनिवार को सुबह लोग जब नींद से जागे तो आसमान में कोहरा डटा था और सूरज किसी दीपक की तरह टिमटिमा रहा था। इसके बाद दिन भर कोहरा डटा रहा। इस कारण कमजोर धूप निकली, जिससे दिन में ठंड का असर बना रहा। शाम होते ही ठंड का असर और तेज हो गया। इसके साथ ही देर रात में कोहरा एक बार फिर से घना होता नजर आया। मौसम विज्ञान केन्द्र भोपाल द्वारा जारी दैनिक रिपोर्ट के अनुसार रविवार को भी ग्वालियर और चम्बल संभाग में कहीं हल्का तो कहीं घना कोहरा छाया रह सकता है, जिससे दिन के तापमान में कमी आएगी, जबकि रात के तापमान में आंशिक वृद्धि हो सकती है। स्थानीय मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार पिछले दिन की अपेक्षा शनिवार को अधिकतम तापामन 2.6 डिग्री सेल्सियस गिरावट के साथ 24.3 डिग्री सेल्सियस पर ही ठहर गया, जो औसत से 1.5 डिग्री सेल्सियस अधिक है, जबकि न्यूनतम तापमान 2.0 डिग्री सेल्सियस बढ़कर 7.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो औसत से 0.9 डिग्री सेल्सियस अधिक है। इसी प्रकार हवा में नमी सुबह 90 और शाम को 74 फीसदी दर्ज की गई, जो सामान्य से क्रमश: 12 व 22 फीसदी अधिक है।