कॉक्लियर इम्प्लांट से आयुषी को मिली नई जिंदगी

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 05-Dec-2017

उज्जैन। उज्जैन की रहने वाली आयुषी शक्तावत की उम्र जब एक वर्ष थी, तब वह गंभीर रूप से बीमार हुई और इलाज के दौरान उसकी सुनने की क्षमता पूरी तरह खत्म हो गई। आयुषी की फेशियल नर्व डेमेज होने के कारण उसका चेहरा व एक आंख भी पेरेलाइज हो गई। समय के साथ-साथ सुनाई न देने की समस्या और अधिक विकट हो गई। आयुषी के परिजनों को तब कॉक्लियर इम्प्लांट की जानकारी प्राप्त हुई और उन्होंने जिला चिकित्सालय में सम्पर्क किया। साथ-साथ उक्त बालिका का एडमिशन मूक-बधिर विद्यालय में करा दिया गया।

मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना के तहत आयुषी का कॉक्लियर इम्प्लांट करवाया गया। इसके बाद स्पीच थैरेपी के लिये वर्षभर इन्दौर में जाकर स्पीच थैरेपी करवाई गई। कॉक्लियर इम्प्लांट को पांच वर्ष पूरे हो चुके हैं। आयुषी अब तक्षशिला इंगलिश मीडियम स्कूल में 7वी कक्षा में पढ़ रही है और अच्छे अंकों से उत्तीर्ण हो रही है। आयुषी ने चर्चा में बताया कि वह आगे चलकर कलेक्टर बनना चाहती है।