नयति का नया करिश्मा: अब उलटा चोर कोतवाल को डांट रहा है...

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 15-Jul-2017
-महिला डाक्टर ने अस्पताल प्रशासन की कारगुजारियां उजागर की तो थमा दिया लीगल नोटिस

मथुरा। नयति अस्पताल प्रशासन का नया करिश्मा देखिये। एक महिला चिकित्सक ने जब इस अस्पताल प्रशासन व चिकित्सकों की कारगुजारियों को उजागर किया तो अपनी गलतियों से सबक लेकर उसे ठीक करने के स्थान पर उन्होंने महिला चिकित्सक को ही लीगल नोटिस थमा दिया। इस नोटिस के बाद शहर के चिकित्सकों में रोष पनप रहा है। 
 
बीते दिनों की बात है जब डा. रश्मि गोयल अपनी माँ को नयति अस्पताल दिखाने गयीं। महिला डॉक्टर के प्रति पहले इस अस्पताल के डॉक्टरों ने बेहद खराब व्यवहार किया। माँ के ऑपरेशन के लिये दबाव डाला। मात्र एक घंटे में 7500 रूपये का बिल बना डाला। जब महिला डॉक्टर ने अपनी पीड़ा इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के सदस्यों से सोशल साइट पर शेयर की तो नयति अस्पताल प्रशासन ने महिला चिकित्सक को ही लीगल नोटिस थमा दिया। अब ये तो वही कहावत चरितार्थ हो गई की चोरी और सीनाजोरी। 
 
बहरहाल नयति अस्पताल के शहर की एक प्रतिष्ठित महिला चिकित्सक के प्रति इस घटिया रवैये की चर्चा शहर के लोगों की जुबान पर है। शहर के अधिकांश चिकित्सकों में इस बात को लेकर रोष है। जब आईएमए संगठन की महिला सदस्य की माँ की तबियत खराब हुई तो उस महिला डॉक्टर की पीड़ा, अस्पताल प्रशासन की कारगुजारियों को दबाने के लिये नयति अस्पताल प्रशासन हर घटिया हथकंडा अपना रहा है। नयति अस्पताल प्रशासन उन्हीं के सदस्यों के साथ ऐसा व्यवहार कर रहा है तो उनके द्वारा भेजे गये मरीजों का किस तरह से इलाज करता होगा और उनके तीमारदारों के साथ कैसा व्यवहार किया जाता होगा। बहरहाल चिकित्सकों में इस प्रकरण को लेकर गुस्सा है लेकिन इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने चुप्पी साध रखी है। 
 
आये दिन तीमारदार लगाते हैं गंभीर आरोप 
 
मथुरा। जब से मथुरा में नयति अस्पताल खुला है तभी से यहां आये दिन तीमारदार नयति अस्पताल के चिकित्सकों पर गंभीर आरोप लगाते रहे है। चिकित्सा के नाम पर यहां सौदेबाजी की जाती है। काउंटर पर रूपये जमा कराने के लिये इमोशनल टॉर्चर किया जाता है। कई बार अस्पताल में जिंदगी जाने की वजह भी तीमारदारों ने चिकित्सकों की हठधर्मिता को बताया है। बहरहाल तीमारदारों के इन गंभीर आरोपों को पुलिस के डंडे के बल पर दबा दिया जाता है।