गणपति बप्पा को ऐसे करें प्रसन्न

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 25-Aug-2017

स्वदेश वेब डेस्क। भगवान गणेश के जन्म उत्सव को गणेश चतुर्थी के रूप में जाना जाता है। गणेश चतुर्थी पूरे देशभर में हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है। किसी भी शुभ काम के पहले गणेश की पूजा की जाती है। भगवान गणेश को बुद्धि, समृद्धि और सौभाग्य के देवता के रूप में पूजा जाता है। यह मान्यता है कि भाद्रपद माह में शुक्ल पक्ष के दौरान भगवान गणेश का जन्म हुआ था।

गणेश चतुर्थी भाद्रपद मास की चतुर्थी से चतर्दर्शी तक यानी दस दिनों तक चलती है। इस बार विशेष संयोग बन रहा है। इस बार चतुर्थी 11 दिन चलेगी। इस साल गणेश चतुर्थी 25 अगस्त को मनाई जाएगी।

ये है पूजा का सही समय

ऐसा माना जाता है कि भगवान गणेश का जन्म मध्याह्न काल के दौरान हुआ था इसीलिए मध्याह्न के समय को गणेश पूजा के लिये ज्यादा उपयुक्त माना जाता है। हिन्दू दिन के विभाजन के अनुसार मध्याह्न काल, अंग्रेजी समय के अनुसार दोपहर के तुल्य होता है। 

श्री गणेश का पूजन जीवन में खुशियां लाता है। श्री गणेश के इन मूल मंत्रों का 108 बार नियमित जप करने से मनोकामना पूर्ति में सहायक होते हैं।किसी भी एक मंत्र का जप किया जा सकता है।

श्री गणेशाय नमः।

ऊँ गं गणपतये नमः।

ऊँ गं ऊँ