संस्कृति और धन संपदा का खजाना है भारत

स्रोत: न्यूज़ नेटवर्क      तारीख: 05-May-2018

राष्ट्र सेविका समिति के शिविर का आयोजन

वालियर| राष्ट्र सेविका समिति द्वारा नदी द्वार स्थित विद्या भारती में व्यक्तित्व विकास शिविर का आयोजन किया जा रहा है । राष्ट्र सेविका समिति के शिविर में शुक्रवार को तेजोमय भारत विषय पर बौद्धिक सत्र का आयोजन किया गया। इस सत्र में मुख्य वक्ता के रूप में ईपीएस बैगलेस स्कूल की प्राचार्य नंदिता चतुर्वेदी और मुख्य अतिथि के रूप में समाज सेविका डॉ. वंदना शर्मा उपस्थित थीं। कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ. आदर्श दीवान ने की।

कार्यक्रम की शुरूआत दीप प्रज्ज्वलन से की गई। मुख्य वक्ता की आसंदी से नंदिता चतुर्वेदी ने कहा कि हमारा भारत संस्कृति और धन संपदा का खजाना रहा है । इसी खजाने को देखकर अंग्रेज भारत आए और यहां वर्षों तक राज किया। उन्होंने कहा कि अब हमें इस खजाने को संवारकर रखने की आवश्यकता है। मुख्य अतिथि की आसंदी से वंदना शर्मा ने कहा कि ग्वालियर की सभी बेटियां हमारी बेटियां हैं। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के शिविरों से सभी के व्यक्तित्व का विकास होता है। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए डॉ. आदर्श दीवान ने वहां बैठी बेटियों से कहा कि हमें बड़ों का सम्मान करना चाहिए, यही हमारी सबसे बड़ी उपलब्धी होगी। उन्होंने कहा कि हमें अपने विचारों को स्वच्छ रखना चाहिए।

बौद्धिक के उपरांत शिविर में विभिन्न सत्रों का भी आयोजन किया गया। इस अवसर पर राष्ट्र सेविका समिति की ग्वालियर महानगर मार्गदर्शिका वसुधा ताई, राष्ट्र सेविका समिति की विभाग सह-कार्यवाहिका मनीषा इंदापुरकर, महानगर कार्यवाहिका महिमा तारे सहित कई गणमान्य जन उपस्थित थे।